जम्मू, जागरण संवाददाता। लेह में पत्रकार वार्ता के दौरान पत्रकारों को पैसे बांटने के आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए भारतीय जनता पार्टी ने कहा है कि एक साजिश के तहत भाजपा की छवि बिगाड़ने का प्रयास किया गया है। भाजपा ने इस मामले में प्रेस क्लब लेह के खिलाफ कोर्ट में मानहानि का केस करने का ऐलान करते हुए कहा है कि भाजपा इस पर चुप नहीं बैठेगी और क्लब के सभी पदाधिकारियों को पार्टी बनाकर केस करेगी। वहीं नेशनल कांफ्रेंस के प्रदेश उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट कर लेह में भाजपा नेताओं द्वारा पत्रकारों को कथित रिश्वत देने के मामले में निष्पकक्ष जांच की मांग उठाइ है।

लेह के प्रभारी एमएलसी विक्रम रंधावा ने बुधवार को पार्टी महासचिव डॉ. नरेंद्र सिंह व प्रदेश प्रवक्ता ब्रिगेडियर अनिल गुप्ता के साथ बुधवार को पार्टी मुख्यालय में एक पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि कुछ विरोधी दलों के उकसावे में आकर लेह के कुछ स्थानीय पत्रकारों ने उन पर पैसे बांटने का आरोप लगाया है। रंधावा ने कहा कि चार मई को लेह में रक्षामंत्री की रैली थी और उन्होंने दो मई को हुई पत्रकार वार्ता के बाद पत्रकारों को रैली का निमंत्रण पत्र ही लिफाफे में डालकर दिये थे।

रंधावा ने कहा कि पार्टी की ओर से अधिकारिक निमंत्रण हमेशा लिफाफे में ही डाल कर दिया जाता है। रंधावा ने कहा कि उन्होंने निमंत्रण पत्र दो मई को दिये और चार मई को अचानक यह याद आ गया कि लिफाफे में पैसे थे। पत्रकार वार्ता सम्पन्न होने के बाद उन्होंने पत्रकारों के साथ भोजन भी किया। करीब एक घंटे तक बैठे रहे लेकिन तब कहीं कोई ऐसी बात नहीं हुई। दो दिन बाद अचानक भाजपा पर पैसे बांटने का आरोप लग रहा है जो बताता है कि एक सोची समझी साजिश व योजना के तहत पार्टी की छवि खराब करने का प्रयास किया गया। रंधावा ने कहा कि जो सीसीटीवी फुटेज सामने आए है, उसमें कहीं किसी ने लिफाफे से नोट निकालते क्यों नहीं दिखाए?

रंधावा ने कहा कि लेह में भाजपा को लोगों का भारी समर्थन मिल रहा था जिससे विपक्षी दल बौखला गए थे और उन्होंने मतदान से पूर्व लोगों को गुमराह करने के लिए ऐसा षड़यंत्र रचा। भाजपा को इस संसदीय सीट से जीत मिलने का दावा करते हुए भाजपा नेताओं ने कहा कि इस बार भाजपा 2014 से अधिक अंतर के साथ जीत हासिल करेगी। उन्होंने लेह की जनता का भारी संख्या में मतदान करने व प्रशासन तथा सुरक्षाबलों का शांतिपूर्ण मतदान करवाने के लिए आभार भी प्रकट किया।

वहीं नेशनल कांफ्रेंस के प्रदेश उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट कर लेह में भाजपा नेताओं द्वारा पत्रकारों को कथित रिश्वत देने के मामले में निष्पकक्ष जांच की मांग की। उमर ने ट्वीट करते हुए कहा कि सीसीटीवी फुटेज में भाजपा नेताओं को लेह में पत्रकारों को रिश्वत देने का प्रयास करते हुए दिख गया है। उन्होंने अपने इस ट्वीट के साथ प्रेस क्लब लेह द्वारा जारी किए गए शिकायत पत्र की कॉपी को भी संलग्न की है।

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि बाद में प्रेस क्लब लेह के सात पत्रकारों ने स्थानीय पुलिस स्टेशन को यह पत्र लिखकर भाजपा प्रदेश प्रधान रैना और एक अन्य बीजेपी नेता विक्रम रंधावा के खिलाफ आचार संहिता का उल्लंघन कर पत्रकारों को रिश्वत देने का प्रयास करने पर एफआईआर दर्ज करने के लिए कहा।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Rahul Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप