जम्मू, राज्य ब्यूरो। लगातार दूसरी बार प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष चुने गए रविन्द्र रैना 19 जनवरी को दिल्ली रवाना होंगे। हाईकमान ने नए प्रदेश अध्यक्ष के साथ प्रदेश भाजपा के कोर ग्रुप को भी दिल्ली बुलाया है। ऐसे में हाईकमान से भाजपा को नए दिशानिर्देश भी मिल सकते हैं। कोर ग्रुप के साथ जम्मू कश्मीर से भाजपा की राष्ट्रीय परिषद में चुने गए पांच नेता भी दिल्ली जा रहे हैं। वे रविन्द्र रैना के साथ दिल्ली में राष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव में हिस्सा लेंगे।

राष्ट्रीय परिषद के इन सदस्यों में पूर्व मंत्री शक्ति परिहार, प्रिया सेठी, डॉ. अली मोहम्मद मीर, रफीक वानी व मुद्दसर वानी शामिल हैं। भाजपा के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष का फैसला 20 जनवरी को होना है। रैना के साथ दिल्ली जा रहे कोर ग्रुप के सदस्यों में जम्मू-पुंछ के सांसद जुगल किशोर शर्मा, राज्यसभा के सांसद शमशेर मन्हास, संगठन महामंत्री अशोक कौल, महासचिव युद्धवीर सेठी, सुनील शर्मा, डॉ. नरेन्द्र के साथ कुछ अन्य वरिष्ठ नेता भी शामिल हैं।

दिल्ली दौरे के दौरान रैना कुछ वरिष्ठ नेताओं के साथ बैठकें भी करेंगे। इस दौरान जम्मू कश्मीर के राजनीति हालात के साथ इस केंद्र शासित प्रदेश में पार्टी की गतिविधियों को तेजी देने के लिए उठाए जाने कदमों पर भी चर्चा संभव है। कोर ग्रुप के सदस्यों के साथ भाजपा हाईकमान के नेताओं की बैठक संभव है।

36 मंत्रियों के जम्मू कश्मीर दौरे से भाजपा खुश

जम्मू कश्मीर में 36 केंद्रीय मंत्रियों के दौरे से प्रदेश भाजपा खुश है। इसलिए भी कि मंत्रियों का यह दौरा विपक्ष के आरोपों की हवा भी निकालेगा। ग्रामीण विकास को रफ्तार मिलेगी। जन-जन तक भाजपा की पहुंच बढ़ेगी और पार्टी कैडर उत्साहित होगा। दौरे से खुश होकर प्रदेश भाजपा के नवनियुक्त अध्यक्ष रविन्द्र रैना ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को आभार भरा पत्र भेजा है।

जम्मू कश्मीर के इतिहास में यह पहली बार है जब केंद्र के मंत्री इतने बड़े पैमाने पर ब्लाक, पंचायत स्तर पर जनता दरबार लगाने के लिए आ रहे हैं। इससे जमीनी स्तर पर विकास को तेजी देने के लिए राज्य प्रशासन भी सक्रिय होगा। रैना ने ऐसा शुक्रवार को प्रधानमंत्री को भेजे पत्र में लिखा है। लिखा है कि जम्मू कश्मीर में पंचायत के बाद ब्लॉक डेवलपमेंट काउंसिल चुनाव भी हो गए हैं, ऐसे में मंत्रियों के दौरों से उन्हें लोगों की उम्मीदों के बारे में सही फीडबैक मिलेगा। पहले केंद्र सरकार के मंत्री शहरों तक सीमित रहते थे, अब मोदी सरकार के मंत्री ग्रामीणों के बीच जाकर उनका हौसला बढ़ाएंगे।

यह भाजपा के सबका साथ सबका मिशन का हिस्सा है।रैना ने लिखा है कि जम्मू कश्मीर के पुनर्गठन, अनुच्छेद 370 के खात्मे के बाद केंद्र शासित प्रदेश के लोगों को विश्वास दिलाया गया था कि सुशासन, पारदर्शिता लाई जाएगी। अब जब केंद्रीय मंत्री लोगों के बीच जाएंगे तो केंद्र प्रायोजित योजनाओं को प्रभावी बनाने की दिशा में हो रहे कार्यक्रमों के बारे में उन्हें पूरा अंदाजा हो जाएगा।

लोगों की शिकायत रहती है कि उनकी मुश्किलों को प्रशासन की ओर से पूरी गंभीरता से नहीं लिया जाता। इस बीच, मंत्रियों के दौरों को लेकर विपक्ष की राजनीति तेज हो गई है। विपक्ष के नेता व जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री गुलाम नबी आजाद ने इसे बर्बादी का जश्न बताया तो भाजपा इसके जवाब में दौरे को सफल बनाने में जुट गई है। 

36 मंत्रियों के जम्मू कश्मीर दौरे से भाजपा खुश, रविन्द्र रैना कोर ग्रुप के साथ कल जाएंगे दिल्ली

जम्मू-कश्मीर: नशा तस्करों से निपटेगी स्पेशल नारकोटिक्स सेल, पुलिस ने गृह मंत्रालय को मंजूरी के लिए भेजा प्रस्ताव

Posted By: Preeti jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस