राज्य ब्यूरो, जम्मू : पैंथर्स पार्टी के मुख्य सरंक्षक प्रो. भीम ¨सह ने कहा कि जम्मू कश्मीर में लागू किए गए अनुच्छेद 35ए से राज्य के लोगों के मौलिक अधिकारों का हनन हो रहा है। लीगल ऐड कमेटी की नई दिल्ली में हुई बैठक में अनुच्छेद 35ए के विभिन्न पहलुओं पर विचार विमर्श किया गया।

कानूनविदें ने कहा कि वर्ष 1954 में तत्कालीन राष्ट्रपति ने अनुच्छेद 35 के साथ ए को जोड़ कर आदेश जारी किया था। इससे जम्मू कश्मीर के लोगों के मौलिक अधिकारों का उल्लंघन किया गया। जम्मू कश्मीर में सत्ता के लालची नेताओें ने अनुच्छेद 35ए पर लोगों को गुमराह किया। बैठक में भीम ¨सह ने कहा कि जम्मू कश्मीर में बिना किसी कानून के हजारों लोगों को जेलों में डाला गया था। इसमें शेख मोहम्मद अब्दुल्ला व अन्य नेता कार्यकर्ता शामिल थे। वह भी आठ साल से अधिक समय तक जेलों में बंद रहे। उन्होंने केंद्र सरकार व राज्य के नेतृत्व पर आरोप लगाए कि अनुच्छेद 35ए के मुद्दे पर लोगों को गुमराह किया गया। इस पर गलत जानकारियां देते हुए नेताओं ने लोगों को गलतफहमी का शिकार बनाया। अनुच्छेद 35ए जम्मू कश्मीर के लोगों का हित नहीं करती है। जो इसका विरोध कर रहे हैं वे नहीं चाहते कि जम्मू कश्मीर के लोगों को मौलिक अधिकार हासिल हो।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस