जम्मू, जेएनएन : लद्दाख के तुरतुक सेक्टर में सेना के जवानों से भरी जो बस शुक्रवार को श्योक नदी में गिरी थी, जिसमें सात जवान बलिदान हुए थे, उस बस के ड्राइवर का पुलिस की देखरेख मेें नोबरा उप जिला अस्पताल में इलाज चल रहा है। अभी उसकी हालत भी गंभीर ही बनी है। उसके स्वस्थ होने के बाद उसे हिरासत में लिया जाएगा। उसके खिलाफ नोबना थाने में केस दर्ज है। ड्राइवर का नाम अहमद शाह है। वह लेह जिले के नोबरा थाना क्षेत्र के चंगमर का रहने वाला है। जवानों के साथ वह भी दुर्घटना का शिकार हुआ था।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक दुर्घटनाग्रस्त बस नंबर जेके10-6245 निजी बस थी, लेकिन वह सेना के साथ लगी हुई थी। उस बस को स्थानीय ड्राइवर अहमद शाह ही चला रहा था। राहत और बचाव कार्य के दौरान जवानों के साथ दुर्घटनाग्रस्त बस से ड्राइवर को भी निकाला गया था। वह भी गंभीर रूप से घायल था। हालांकि पहले यह खबर फैली थी कि ड्राइवर फरार हो गया, लेकिन वह खुद भी दुर्घटना का शिकार हुआ था। पुलिस ने कानूनी प्रक्रिया के तहत हादसे को लेकर केस दर्ज किया है, लेकिन घायल चालक से अभी पूछताछ नहीं की जा सकी है। नोबरा थाने की पुलिस के मताबिक जांच के बाद ही धाराओं में कुछ बदलाव संभव है।

बता दें कि लद्दाख के तुरतुक सेक्टर में शुक्रवार को 26 जवानों से भरी बस उस समय श्योक नदी में गिर गई थी, जब बस परतापुर के ट्रांजिट कैंप से हनीफ सब सेक्टर के अग्रिम इलाके की ओर जा रही थी। थोइस से करीब 25 किलोमीटर दूर हुए इस हादसे में सात जवानों की मौके पर ही जान चली गई थी और 19 गंभीर रूप से घायल हो गए थे। सभी घायल जवानों को पहले परतापुर के 403 फील्ड अस्पताल पहुंचाया गया। वहां प्राथमिक उपचार देने के बाद सभी को भारतीय वायु सेना के विशेष विमान से चंडीगढ़ भेज दिया गया। वहां पंचकूला स्थित सैन्य अस्पताल में सभी का इलाज चल रहा है। हादसे पर प्रधानमंत्री ने भी शोक जताया था।

Edited By: Lokesh Chandra Mishra