जम्मू, जागरण संवाददाता। एंटी करप्शन ब्यूरो ने कश्मीर के अस्पतालों में घटिया क्वालिटी की लिफ्ट लगाकर सरकारी खजाने को नुकसान पहुंचाने के आरोप में जेएंडके प्राेजेक्ट कंस्ट्रक्शन कारपोरेशन लिमिटेड(जेकेपीसीसी) अधिकारियों के खिलाफ केस दर्ज किया है। ब्यूरो ने मामले की विस्तृत जांच शुरू कर दी है लेकिन अभी तक इस केस में किसी तरह की कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है।

ब्यूरो को इस मामले में शिकायत मिलने के साथ स्टेट विजिलेंस कमीशन की ओर से भी कुछ संबंधित दस्तावेज सौंपे गए थे। दस्तावेजों की जांच में खुलासा हुआ कि वर्ष 2012-2013 में जेकेपीसीसी ने विभिन्न टेंडर जारी कर बारामूला जिला अस्पताल, रैनावाड़ी अस्पताल व एलडी अस्पताल श्रीनगर में 26 पैसेंजर बेड लिफ्ट लगाने के लिए टेंडर आमंत्रित किए। यह टेंडर मैसर्स एेस कंसलटेंट फतेह कदल श्रीनगर के माध्यम से मैसर्स टेक्नो इंडस्ट्रीज लिमिटेड अहमदाबाद को अलाट हुआ।

टेंडर की शर्ताें अनुसार कंपनी को ए श्रेणी की लिफ्ट लगानी थी लेकिन अस्पतालों में बी श्रेणी की लिफ्ट लगाकर सरकारी खजाने को नुकसान पहुंचाया गया। ब्यूरो की जांच में खुलासा हुआ कि कंपनी ने जेकेपीसीसी की मेकेनिकल यूनिट के अधिकारियों के साथ मिलकर लिफ्ट में घटिया उपकरणों का इस्तेमाल किया।

लिफ्ट इंस्टाल करते समय टेंडर की तमाम नियमों व शर्ताें का उल्लंघन किया गया और ये सब जेकेपीसीसी अधिकारियों की मिलीभगत से संभव हुआ। प्रारंभिक जांच में इस घोटाले में जेकेपीसीसी अधिकारियों की मिलीभगत साबित होने पर ब्यूरो ने केस दर्ज कर आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है।

Posted By: Rahul Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप