जम्मू, जेएनएन। देश के दूसरे राज्यों की तरह जम्मू में भी सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर दिल्ली में स्थित प्राचीन रविदास मंदिर गिराए के विरोध में रविदास समाज के लोगों में गुस्सा फूट पड़ा। गुरु रविदास सभा कृष्णा नगर से रैली निकाल डोगरा चौक पहुंचे समुदाय के लोगों ने सड़कों पर धरना डाल मंदिर गिराने की कार्रवाई के खिलाफ विरोध जताया। धरने पर बैठे लोगों जिनमें महिलाएं भी शामिल हैं, ने कहा कि गुरु रविदास का मंदिर गिराकर समुदाय की भावनाओं को ठेस पहुंचाई है।

तवी पुल का मुख्य मार्ग बंद होने के कारण डोगरा चौक, ज्यूल चौक, गुम्मट चौक में करीब चार घंटों तक वाहनों का लंबा जाम लगा रहा। हालांकि ट्रैफिक विभाग ने यातायात को नियमित बनाने का प्रयास किया परंतु एकाएक रूट में तबदीली किए जाने के कारण लोगों को काफी परेशानी हुई। शांतिपूर्वक चल रहे इस प्रदर्शन को देखते हुए शहर से आने वाले वाहनों का रूट गुज्जर नगर पुल की ओर तबदील कर दिया गया था जबकि कैनाल रोड से गांधी नगर आने वाले वाहनों को भगवती नगर पुल से भेजा जा रहा था परंतु इसके बावजूद शहर की यातायात व्यवस्था प्रभावित होकर रह गई। एकाएक वाहनों के लगे इस जाम के कारण लोग जाम में फंसकर रह गए थे।

धरना स्थल व उसके आसपास के इलाकों में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई थी। सीआरपीएफ के जवान व रैपिड एक्शन फोर्स के जवान स्थिति पर नजर रखे हुए थे। इस बीच पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों ने मौके पर पहुंच धरने पर बैठे रविदास समुदाय के लोगों को समझाया और इस बात का यकीन दिलाया कि प्रशासन की मदद से उनका यह विरोध केंद्र सरकार तक पहुंचा दिया जाएगा। दरअसल समुदाय के लोग मांग कर रहे थे कि मंदिर की भूमि गुरु रविदास सभा को सौंपी जाए ताकि वहां फिर से मंदिर का निर्माण किया जा सके।

जम्मू और कटड़ा आने वाली कई रेलगाड़ियों को रोका गया

पंजाब के चूरू (जालंधर के नजदीक) इलाके में प्रदर्शनकारियों द्वारा घंटों रेलवे ट्रैक पर प्रदर्शन करने से जम्मू जालंधर रेल सेक्शन घंटों बंद रहा। जम्मू रेलवे स्टेशन पर आने तथा यहां से रवाना होने वाली कई रेलगाड़ियों को बीच में हीं रोक लिया गया। प्रदर्शनकारियों के रेलवे ट्रैक के हटने के बाद रेल यातायात सुचारु हो पाया। रेलगाड़ियों के घंटों फंसे रहने के चलते उनमें सवार यात्रियों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ा। जम्मू रेलवे स्टेशन सुपरिंटेंडेंट राजीव सभ्रवाल ने बताया कि जालंधर के चूरू इलाके में सुबह दस बजे के करीब प्रदर्शनकारियों ने रेलवे ट्रैक को अवरुद्ध कर दिया था। इस दौरान जम्मू आने वाली अधिकतर रेलगाड़ियां अपने गंतव्य तक पहुंच गई थी। अलबत्ता गौरखपुर से जम्मू आ रही रेलगाड़ी संख्या 12587 गौरखपुर जम्मू तवी एक्सप्रेस को जालंधर के पीछे रोक दिया गया था। यह रेलगाड़ी अपने तय समय से सात घंटे देरी से जम्मू रेलवे स्टेशन पर पहुंची। इसके अलावा कटड़ा आने वाली तीन रेलगाड़ियां जिनमें रेलगाड़ी संख्या 15655 कामख्या कटड़ा एक्स्प्रेस अपने तय समय से साढ़े चार घंटे देरी से पहुंची। मुम्बई से कटड़ा आ रही रेलगाड़ी संख्या 12471 अपने तय समय से साढ़े तीन घंटे देरी से पहुंची। देरी से आने वाली रेलगाड़ी संख्या 12919 मालवा एक्सप्रेस भी चार घंटे देरी से पहुंची। वहीं, जम्मू से हालांकि सभी रेलगाड़ियों को अपने तय समय पर रवाना किया गया, लेकिन कुछ रेलगाड़ियों को पठानकोट से जालंधर के बीच में हीं रोक लिया गया। जिन रेलगाड़ियों को रोका गया उनमें मालवा एक्सप्रेस और स्वराज एक्सप्रेस शामिल है। रेलवे ट्रैक खुलाने के बाद इन रेलगाड़ियों को अपने गंतव्य की ओर भेज दिया गया।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Rahul Sharma