जम्मू, रोहित जंडियाल। अब राजकीय मेडिकल कॉलेज जम्मू में वेंटीलेटर के लिए मरीजों को लंबा इंतजार नहीं करना पड़ेगा। आम तौर पर पहले वेंटीलेटर के लिए मरीजों को इंतजार करना पड़ता था। मेडिकल कॉलेज अस्पताल में 48 नए वेंटीलेटर स्थापित किए गए हैं। इनकी स्थापना के साथ ही वेंटीलेटर की संख्या 96 हो गई है। जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल जीसी मुमरू जल्द इस सुविधा को उदघाटन करेंगे। मेडिकल कॉलेज अस्पताल, श्री महाराजा गुलाब सिंह अस्पताल, चेस्ट डिजिजेस अस्पताल, मनोरोग अस्पताल और सुपर स्पेशलिटी अस्पताल हैं, मेडिकल कॉलेज के अधीन हैं। इन सभी अस्पतालों में करीब 44 वेंटीलेटर हैं।

अभी भी पूरे जम्मू संभाग से मरीज इन्हीं अस्पतालों में उपचार करवाने आते हैं। गंभीर बीमार मरीजों को वेंटीलेटर की जरूरत पड़ती है। सीमित वेंटीलेटर होने के कारण हर दिन छह से सात मरीजों को मायूस होना पड़ता है। कई वर्षो से कोई दिन ऐसा नहीं बीता जब अस्पतालों में एक भी वेंटीलेटर खाली रहा हो। कई मरीजों को निजी अस्पतालों में जाने के लिए विवश होना पड़ता है। मेडिकल कालेज जम्मू में 48 नए वेंटीलेटर स्थापित किए हैं। इनमें से 16 नए बनाए गए इंटेंसिव केयर यूनिट (आइसीयू) और 32 हाई डिपैंडेसी यूनिट में लगाए हैं। आइसीयू में 16 वेंटीलेटरों में आठ जनरल मेडिसीन, चार आर्थाेपैडिक विभाग और चार सर्जरी विभाग के लिए होंगे। इसी सप्ताह से यह सुविधा मरीजों को मिलने की उम्मीद है। जीएमसी प्रशासन ने उपराज्यपाल जीसी मुमरू से संपर्क किया है। उद्घाटन करने के लिए समय मांगा है।

आइसीयू 16 व हाई डिपैंडेंसी वार्ड 33 बिस्तरों की क्षमता का होगा

नए आइसीयू और हाई डिपैंडेसी वार्ड में कई आधुनिक सुविधाएं होंगी। आइसीयू 16 बिस्तरों का और हाई डिपैंडेंसी वार्ड 33 बिस्तरों की क्षमता का होगा। इनमें वेंटीलेंटरों के अलावा मॉनिटर, इंफ्यूजन पंप, कलर डाप्लर, पोर्टेबल एक्स-रे मशीने भी होंगी। मेडिकल कॉलेज जम्मू की ¨प्रसिपल डॉ. सुनंदा रैना ने कहा कि अब अस्पताल में मरीजों को आधुनिक सुविधाओं का लाभ मिलेगा। जल्द ही इनका उदघाटन किया जाएगा। इसके अलावा अस्पताल में इसी सप्ताह स्किल लैब, स्पाइनल सेंटर और आर्थाे ऑपरेशन थियेटर कांप्लेक्स का भी उद्घाटन होगा। आर्थाे के माड्यूलर ऑपरेशन थियेटर बनाए गए हैं।

निजी अस्पतालों की आर्थिक लूट से बचेंगे मरीज

अगर मरीज को जम्मू के किसी निजी अस्पताल में वेंटीलेटर की सुविधा लेनी हो तो उसे एक दिन का पांच से दस हजार रुपये देना पड़ता है। यह सुविधा जम्मू के बहुत कम निजी अस्पतालों में हैं। कई मरीज बाहरी राज्यों में जाने के लिए विवश हो जाते थे। बाहर के कई राज्यों में स्थित आइसीयू में एक दिन के लिए तीस से पचास हजार रुपये तक देने पड़ते हैं। जीएमसी जम्मू में सुविधा शुरू होने से मरीजों के हजारों रुपये बचेंगे।

सैमसंग देगा जीएमसी में उपकरण

राजकीय मेडिकल कॉलेज (जीएमसी) अस्पताल जम्मू और सैमसंग इंडिया इलेक्ट्रॉनिक्स प्राइवेट लिमिटेड ने सोमवार को आपसी सहमति पत्र (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए हैं। इसके तहत सैमसंग अपने सामाजिक दायित्व के तहत जीएमसी जम्मू को मेडिकल उपकरण देगा। इनमें चार अल्ट्रासाउंड मशीनें और मोबाइल डिजिटल रेडियोग्राफी मशीन शामिल है। इससे अस्पताल में मरीजों को लाभ होगा। जीएमसी की ¨प्रसिपल डॉ. सुनंदा रैना ने उपकरण देने के लिए सैमसंग का आभार जताया। इस मौके पर रेडियो डायग्नोसिस विभाग के एचओडी डॉ. नरेंद्र शर्मा व डॉ. राजेश शर्मा मौजूद थे। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप