श्रीनगर, जेएनएन। श्रीनगर में प्रशासन द्वारा बार-बार जागरूक करने के बाद भी लोग कोरोना के खतरे की गंभीरता को समझ नहीं रहे हैं। विदेशों-दूसरे राज्यों से कश्मीर लौटे जो लोग प्रशासन से बात छुपाकर सीधे अपने परिवार व पड़ोसियों के बीच रह रहे हैं, उनके कारण दूसरों को भी खतरा पैदा हो गया है। श्रीनगर के चट्टाबल और बटमालू क्षेत्र के कम से कम 26 लोग, जिन्हें गत शनिवार सुबह तड़के जवाहर लाल नेहरू मेमोरियल अस्पताल (जेएलएनएमएच), रेनावाड़ी, श्रीनगर में क्वारंटाइन केंद्र में रखा गया था, अस्पताल के दरवाजे-खिड़की के शीशे तोड़कर फरार हो गए। गनिमत यह रही कि अस्पताल प्रबंधन की सूचना पर तुरंत कार्रवाई करते हुए पुलिस ने सभी लोगों को पकड़कर वापस क्वारंटाइन केंद्र पहुंचाया।

अस्पताल के अधिकारियों ने बताया कि शुक्रवार को श्रीनगर के चट्टाबल क्षेत्र में कोरोना संक्रमण का पॉजीटिव मामला सामना आने के बाद चट्टाबल और बटमालू से 14 महिलाओं और 12 पुरुषों सहित कई लोगों को अस्पताल में एहतियातन क्वारंटाइन केंद्र में रखा गया। हालांकि क्वारंटाइन किए गए लोगों ने यह शिकायत भी की कि वे अस्पताल की सुविधा से संतुष्ट नहीं हैं। आज सुबह वे सभी अस्पताल में इकटठा हो गए आैर नारेबाजी शुरू कर दी। उनका कहना था कि जब से उन्हें यहां लाया गया है न तो किसी डाॅक्टर ने उनकी सुध ली है। ना ही उनके खाने पीने का ख्याल रखा जा रहा है। अस्पताल प्रशासन के इस रवैये के खिलाफ नारे लगाते हुए इन लोगों ने वहां से जबरदस्ती निकलने की कोशिश की। जब अस्पताल प्रशासन ने उन्हें रोकने का प्रयास किया तो गुस्साए लोगों ने अस्पताल की खिड़कियां-दरवाजे तोड़ दिए और वहां से फरार हो गए। अस्पताल प्रशासन ने फौरन इसकी सूचना पुलिस को दी। पुलिस ने भी सूचना पर तुरंत कार्रवाई करते हुए फरार हुए सभी लोगों जो इस बीच अपने घर पहुंच गए थे, को वाहनों में भर वापस अस्पताल पहुंचाया।

दरअसल ये सभी लोग चट्टाबाल में पॉजीटिव पाए गए दंपति के करीबी रिश्तेदार व उसके परिवार के सदस्य हैं। जवाहर लाल नेहरू मेमोरियल अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ जाकिर अहमद ने इस बात की पुष्टि करते हुए कहा कि लोगों के भागने के तुरंत बाद ही पुलिस को इस बारे में सूचित कर दिया गया था। पुलिस कुछ घंटों बाद ही सभी लोगों को पकड़कर वापस क्वारंटाइन केंद्र ले आइ। यह पूछे जाने पर कि अस्पताल प्रबंधन उन्हें सुविधाएं मुहैया क्यों नहीं करवा रहा है तो इस पर डॉ जाकिर ने कहा कि फिलहाल उन्हें देखरेख में रखा गया है। आज शाम से हम उनका चेकअप करना शुरू कर देंगें। जहां तक खाने पीने व अन्य सुविधाआें का सवाल है तो उन्हें भी वे सभी सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं, जो दूसरे मरीजों को दी जाती हैं।

Posted By: Rahul Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस