जम्मू, राज्य ब्यूरो: जम्मू-कश्मीर में कोरोना से बचाव के लिए टीकाकरण जारी है। वीरवार को 11,270 और लोगों ने टीकाकरण करवाया। इसके साथ ही अभी तक जम्मू-कश्मीर में 38,43,897 लोगों का टीकाकरण हो चुका है। जम्मू, गांदरबल और शोपियां के बाद सांबा जिले में सौ फीसद लोगों ने 45 साल से अधिक आयु वर्ग में पहली डोज ले ली है।

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग से मिली जानकारी के अनुसार 45 साल से अधिक आयु वर्ग में 77.40 फीसद लोगों का अभी तक टीकाकरण हो गया है7 उपराज्यपाल ने तीस जून तक सौ फीसद लोगों का टीकाकरण करे के निर्देश जारी किए हैं। वीरवार को इस आयु वर्ग में जम्मू जिले में 919, ऊधमपुर में 215, राजौरी 2005, कठुआ 362, पुंछ 346 और डोडा 338 लोगों का टीकाकरण हुआ। अनंतनाग में 390, कुलगाम में 676, पुलवामा में बीस, श्रीनगर में 1980, बारामुला में 1165 लोगों ने टीकाकरण करवाया है।

वहीं 18-44 साल के आयु वर्ग में अब पूरे जम्मू-कश्मीर में टीकाकरण अभियान जारी है। जम्मू जिले में सबसे अधिक 90 हजार के करीब लोगों ने इस वर्ग में टीकाकरण करवाया है। वहीं अन्य जिलों में भी अभियान जारी है। अभी तक इस आयु वर्ग में सात फीसद से अधिक लोगों का टीकाकरण हो चुका है। हालांकि अभी सीमित वैक्सीन होने के कारण सभी जिलों में सीमित संख्या में ही टीकाकरण हो रहा है। उम्मीद जताई जा रही है कि 21 जून के बाद अधिक मात्रा में जम्मू-कश्मीर में वैक्सीन उपलब्ध होगी और इसके बसद अभियान में तेजी लाई जाएगी।

एक और मरीज में ब्लैक फंगस की पुष्टि : जम्मू-कश्मीर में ब्लैक फंगस के मामले आना लगातार जारी है।वीरवार कोे जीएमसी जम्मू में एक और मरीज में ब्लैक फंगस की पुष्टि हुई। इसे मिलाकर अब तक 22 मरीजों में ब्लैक फंगस की पुष्टि हो चुकी है। कुल मिलाकर 29 मामले आए हें लेकिन सात अभी तक संदिग्ध है। वहीं पांच मरीजों की अब तक मौत हो चुकी है। डाक्टरों का कहना है कि जो भी मरीज आ रहे हें, वह कोविड 19 से पीड़ित थे। उनमें ब्लड शूगर का स्तर बढ़ने के कारण ही ब्लैक फंगस हुआ है। मरीज के शरीर में रोग से लड़ने की प्रतिरोधक शक्ति कम हो जाती है। ऐसे में फंगस उसे अपनी चपेट में ले लेता है। जम्मू में जम्मू और कठुआ जिलों में ही सबसे अधिक मरीज हैं।