राज्य ब्यूरो, जम्मू : कश्मीर घाटी में ज्यों-ज्यों हालात सुधरते जाएंगे, स्वतंत्रता दिवस के बाद प्रतिबंधों को चरणबद्ध तरीके से हटा दिया जाएगा। जम्मू संभाग में हालात पूरी तरह से सामान्य हैं। राज्यपाल के मुख्य सचिव व राज्य सरकार के प्रवक्ता रोहित कंसल ने मंगलवार को पत्रकारों को यह जानकारी दी। उनके साथ सूचना विभाग के आयुक्त सचिव मनोज द्विवेदी और सूचना निदेशक डॉ. सहरीश असगर भी मौजूद थी। उन्होंने कहा कि कश्मीर में स्थानीय प्रशासन अलग-अलग जगह पर हालात की समीक्षा करेगा। उसी के आधार पर प्रतिबंधों में छूट देने का फैसला लिया जाएगा। लोगों को हर सुविधा मुहैया करवाई जा रही है। प्रतिबंध के दौरान साढ़े 13 हजार से अधिक लोगों ने अस्पतालों में ओपीडी में स्वास्थ्य जांच करवाई, जबकि 14 सौ लोग अस्पतालों में भर्ती हुए। घाटी के सभी अस्पतालों में जीवन रक्षक सहित सभी दवाइयां उपलब्ध हैं। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय राजमार्ग खुला है। रोजाना सौ गाड़ियां एलपीजी सहित सभी जरूरी सामान लेकर कश्मीर आ रही हैं। इसके अलावा 14-15 सौ छोटी बड़ी गाड़ियां भी यात्रियों को लेकर दौड़ रही हैं। प्रशासन का प्रयास है कि लोगों को कोई असुविधा न हो।

गौरतलब है राज्य प्रशासन ने पूरे राज्य में पांच अगस्त को अनुच्छेद 370 हटाने से पूर्व मध्य रात्रि से प्रतिबंध लगाए थे। नौ अगस्त को कश्मीर में ईद की खरीदारी के लिए प्रतिबध में छूट दी थी। स्वतंत्रता दिवस समारोह को लेकर पुख्ता प्रबंध

सरकार के प्रवक्ता ने कहा कि मंगलवार को हर जिले में फुल ड्रेस रिहर्सल हुई है। स्वतंत्रता दिवस समारोह के लिए पुख्ता प्रबंध किए हैं। हर जिले में स्वतंत्रता दिवस समारोह धूमधाम से मनाया जाएगा। लाल चौक सहित अन्य स्थानों पर तिरंगा फहराए जाने पर उन्होंने कहा कि स्वतंत्रता दिवस समारोह राज्य में मनाया जाएगा। किसी एक जगह पर विशेष तौर पर कुछ भी नहीं कह सकते। लोगों की सुविधा के लिए 300 टेलीफोन बूथ

कश्मीर में लोगों की सुविधा के लिए 300 टेलीफोन बूथ बनाए हैं। पहले दिन ही पांच हजार लोगों के फोन आए। सोशल मीडिया पर कुछ शरारती तत्वों द्वारा दुष्प्रचार करने पर रोहित कंसल ने कहा कि इस मामले में कानूनी ढंग से निपट जा रहा है। जब भी किसी फर्जी सोशल मीडिया एकाउंट की जानकारी मिल रही है, उस पर तुरंत कार्रवाई की जा रही है।

Posted By: Jagran