जागरण संवाददाता, जम्मू : वर्ष 2016 में स्टेट अवार्ड से सम्मानित होने वाली आरुषि कोतवाल की तमन्ना है कि वह एक दिन भारत का प्रतिनिधित्व कर शह और मात के खेल चेस में व‌र्ल्ड चैंपियन बने। भले ही इस मार्ग में आगे बढ़ने के लिए उन्हें कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है लेकिन अगर सरकार से प्रोत्साहन के नाम पर सहयोग मिले तो फिर आरुषि को चेस के खेल में व‌र्ल्ड चैंपियन बनने से कोई नहीं रोक सकता है।

आरुषि भले ही राज्य सरकार से आज तक किसी भी तरह का सहयोग नहीं मिलने से काफी खफा हैं लेकिन उन्हें वह यादगार क्षण भी याद हैं जब राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने उन्हें एशियन स्कूल चेस प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक जीतने पर 50 हजार रुपये की राशि देकर सम्मानित किया था। आरुषि ने दूसरी कक्षा में पढ़ते हुए चेस खेलना शुरू किया और पहली बार अंडर-7 आयुवर्ग में पहला और अंडर-9 आयुवर्ग में दूसरा स्थान हासिल किया। आरुषि ने चेस खेल की शुरुआत पहले अपने घर से शुरू की और फिर एक दिन घर के सभी सदस्यों को हराते-हराते आज देश के खिलाड़ियों को कड़ी टक्कर दे रही हैं। इसी का नतीजा है कि वह अब तक कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में भाग लेकर अपनी प्रतिभा साबित कर चुकी है। आरुषि ने नई दिल्ली में आयोजित एशियन स्कूल चेस प्रतियोगिता में भाग लेकर स्वर्ण पदक जीता। इसके अलावा ताशकंद में आयोजित अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में भी भाग लेकर राज्य और देश का नाम रोशन कर चुकी है। गत जुलाई में श्रीलंका में आयोजित 14वीं एशियन स्कूल चेस प्रतियोगिता में 16 देशों से 454 खिलाड़ियों ने चार अलग-अलग आयु वर्गो के लड़कों एवं लड़कियों के वर्ग में भाग लिया था। इसमें लड़कियों के अंडर-17 आयुवर्ग में आरुषि कोतवाल अपने प्रतिद्वंद्वियों को मात देकर रजत पदक जीतने में कामयाब रहीं थी। -खेल नीति बननी चाहिए

छह बार स्टेट चैंपियन रहने वाली आरुषि का कहना है कि राज्य सरकार को खिलाड़ियों को प्रोत्साहित करने के लिए खेल नीति बनाना बहुत जरूरी है। राज्य सरकार की ओर से आज तक किसी भी अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं के लिए सहयोग नहीं मिलने के कारण वह दो अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में भाग नहीं ले पाई। उन्होंने उम्मीद जताई कि आने वाले समय में केंद्र सरकार के दिशा निर्देश पर राज्य सरकार भी खिलाड़ियों के कल्याण में सहयोग करेगी तभी राज्य के खिलाड़ी राज्य और देश के नाम को देश-विदेश में चार चांद लगाने में सफल रहेंगे।

Posted By: Jagran