राज्य ब्यूरो, जम्मू : जेएंडके कंबाइड कंपीटेटीव प्रीलिम्स परीक्षा में रविवार को राज्य भर में बनाए गए परीक्षा केंद्रों में हजारों विद्यार्थियों ने अपने भाग्य आजमाया। परीक्षा में कुल 25300 उम्मीदवार परीक्षा में बैठे। पाठ्यक्रम बदलने के बाद पहली बार परीक्षा हुई। परीक्षा के लिए जम्मू कश्मीर लोक सेवा आयोग ने जम्मू और श्रीनगर दोनों ही जगहों पर 65 परीक्षा केंद्र बनाए थे। परीक्षा में दो पेपर हुए। पहला पेपर सुबह दस बजे से लेकर दोपहर दो बजे तक और दूसरा दोपहर दो बजे से लेकर चार बजे तक हुआ। पहले पेपर में 25,354 और दूसरे पेपर में 25310 उम्मीदवार बैठे। कुल 34,873 उम्मीदवारों ने परीक्षा के लिए आवेदन किया था। नौ हजार के करीब उम्मीदवार परीक्षा देने के लिए नहीं आए। सामान्य प्रशासनिक विभाग ने परीक्षा के लिए कुल 92 केएएस अधिकारियों को पर्यवेक्षक नियुक्त किया था। जिन स्कूलों और कालेजों में परीक्षा केंद्र बनाए गए थे, उनके ¨प्रसिपलों को भी सुपरवाइजर बनाया गया था। अनंतनाग, बारामुला, डोडा, कारगिल, लेह और राजौरी में भी परीक्षा केंद्र बनाए गए थे। इन केंद्रों में परीक्षा संबंधित डिप्टी कमिश्नरों की देखरेख में ही हुई। एडिशनल डिप्टी कमिश्नर बारामुला फारूक अहमद बाबा ने जिले में बने परीक्षा केंद्रों का दौरा किया और वहां पर सुविधाओं का जायजा भी लिया। लड़कों के डिग्री कालेज बाराुमला, महिला कोज बारामुला और लड़कियों के हायर सेकेंडरी स्कूल बारामुला में परीक्षा केंद्र बनाए गए थे। एडीसी ने उम्मीदवारों से भी बातचीत की और उन्हें दी गई सुविधाओं के बारे में पूछा। जम्मू में बन परीक्षा केंद्रों में भी पर्यवेक्षकों ने जायजा लिया। वहीं संवेदनशील परीक्षा केंद्रों में परीक्षा से संबंधित सामग्री पहुंचाने के लिए मजिस्ट्रेट और पुलिस की मदद ली गई। जम्मू कश्मीर लोक सेवा आयोग में कंट्रोलर परीक्षा खालिद मजीद के अनुसार परीक्षा कुल 70 पदों के लिए आयोजित की गई है। इनमें जेएंडके जूनियर स्केल, कश्मीर पुलिस सेवा और एकाउंट्स के पद शामिल हैं। लोक सेवा आयोग के चेयरमैन लतीफ देवा ने दावा किया कि परीक्षा सुचारू रूप से संपन्न हुई है। वहीं परीक्षा देने के बाद केंद्रों से बाहर आए उम्मीदवार संतुष्ट नजर आए। इस बार परीक्षा का पैट्रन आईएएस की तर्ज पर किया गया था। उम्मीदवारों का कहना था कि परीक्षा की तैयारी के लिए कम ही समय मिला था। परंतु पेपर ठीक थे।

----

कई उम्मीदवार जाम में फंसे

जम्मू संभाग के रामबन जिले से अनंतनाग जिले में बने परीक्षा केंद्र में परीक्षा देने जा रहे कई उम्मीदवार जवाहर टनल के पास जाम लगने के कारण फंस गए थे। काजीगुंड और जवाहर टनल के बीच जाम लगने के कारण इन उम्मीदवारों को घंटों जाम में फंसना पड़ा। परीक्षा दस बजे शुरू होनी थी। कुछ उम्मीदवार दस बजे भी जाम में ही फंसे हुए थे। जाम में फंसे समीर अहमद वानी और इशफाक अहमद ने कहा कि जाम के कारण वह परीक्षा केंद्र में सही समय पर नहीं पहुंच पाएंगे। उम्मीद है कि उनकी परेशानी को देखते हुए उन्हें थोड़ा अधिक समय दिया जाए। उनके परीक्षा केंद्र अनंतनाग और बिजबेहाड़ा में बने हुए थे।

Posted By: Jagran