जम्मू (राज्य ब्यूरो)। युवती के साथ आपत्तिजनक फोटो वायरल होने से विवादों में घिरे भाजपा विधायक गगन भगत ने राज्य में फिर से सरकार बनाने की तैयारी कर रही पार्टी की मुश्किलें बढ़ा दी है। आरएसपुरा के विधायक ने अब पार्टी के एजेंडे पर प्रहार करते हुए अनुच्छेद 35ए का समर्थन कर कश्मीर केंद्रित पार्टियों की हां में हां मिलाई है। ऐसे हालात में प्रदेश भाजपा ने विधायक के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए यह विवादस्पद वीडियो हाईकमान को भेज दिया है।

विधायक के खिलाफ भाजपा अनुशासन कमेटी की सिफारिशें पहले से केंद्रीय अनुशासन समिति के पास हैं। ऐसे हालात में 15 दिनों में यह दूसरी बार है, जब प्रदेश भाजपा ने अपने विधायक के खिलाफ हाईकमान को लिखा है। गगन भगत ने शनिवार को दावा किया था कि भाजपा के लिए जम्मू के हित मायने नहीं रखते हैं। वह अनुच्छेद 35ए के समर्थन में जम्मू के बाद राज्य के अन्य हिस्सों में भी मुहिम चलाएंगे।

पिछले महीने गगन भगत को प्रदेश भाजपा की अनुशासन समिति ने तीन महीनों के लिए निलंबित करने की सिफारिश की थी। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष रविंद्र रैना ने 27 जुलाई को इस सिफारिश को हाईकमान को कार्रवाई करने के लिए भेज दिया था। अब एक बार फिर विधायक के विवादस्पद बयान के बारे में हाईकमान को सूचित किया गया है। शनिवार को यह विवाद पैदा होने के बाद भाजपा की अनुशासन समिति ने विचार विमर्श करने के बाद इस मामले में कार्रवाई करने की लिखित सिफारिश कर दी थी। अब हाईकमान के पास मामले में कार्रवाई करने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा है। पहले यह कयास लगाए जा रहे थे कि सरकार बनाने की तैयारियों के कारण भाजपा अपने विधायक को निलंबित करने में जल्दबाजी करने के मूड में नहीं है।

ऐसे हालात में भाजपा विधायक ने कड़े तेवर दिखाते हुए पूछा था कि पार्टी उनके खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं कर रही है। भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि हमने विधायक के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की पैरवी की है। अब हम हाईकमान के फैसले का इंतजार कर रहे हैं। हाईकमान को इस मामले के बारे में पूरी जानकारी है। भाजपा की अनुशासन कमेटी ने पिछले महीने गगन भगत को तीन महीने के लिए भाजपा से निलंबित करने की सिफारिश की थी। यह सिफारिश भी की गई थी कि अगर विधायक तीन महीने में खुद को निर्दोष साबित नहीं कर पाए, तो उन्हें हमेशा के लिए भाजपा से निकाला जा सकता है। कमेटी ने भाजपा विधायक को 12 जुलाई और 19 जुलाई को तलब किया था। विधायक की ओर से आरोपों पर संतोषजनक जवाब नहीं दिए गए थे। इस दौरान विधायक की पत्नी व विधायक के साथ आपत्तिजनक स्थिति में दिखी युवती के दादा ने भी अनुशासन कमेटी के सामने पेश होकर भाजपा विधायक के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की थी।