जम्मू, जेएनएन। सुरक्षाबलों ने मंदिरों के शहर को बम धमाकों से दहला निर्दाेषों के खून से नहलाने की आतंकियों की एक बड़ी साजिश को मंगलवार को नाकाम बना दिया। बिलावर से जम्मू बस स्टैंड पर पहुंची एक एक यात्री बस में भेजी गई 15 किलो विस्फोटक सामग्री की खेप को सुरक्षाबलों ने बरामद किया है। इसके साथ ही कथित तौर पर दो नक्शे भी बरामद किए गए हैं जो एयरपोर्ट, बाड़ी ब्राह्मण सैन्य छावनी और जम्मू बस स्टैंड पर धमाकों की साजिश का संकेत देते हैं। बस चालक व क्लीनर के समेत तीन लोगों से फिलहाल पूछताछ जारी है।

बस स्टैंड से मिली विस्फोटक सामग्री और नक्शों के बाद पूरे जम्मू संभाग में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है। जम्मू एयरपोर्ट, बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन समेत सभी महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों और भीड़ भरे इलाकों की सुरक्षा व्यवस्था में आतंकी मंसूबों के मददेनजर व्यापक बदलाव करते हुए उसे और चाक चौबंद बनाया गया है। सभी सैन्य प्रतिष्ठानों की सुरक्षा भी बढ़ायी गई है।

पकड़े गए विस्फोटक की मात्रा करीब 15 किलो है। इसके अलावा विस्फोटक की प्रकृति का पता लगाने के लिए उसकी जांच की जा रही है। बताया जा रहा है कि यह गनपाऊडर है। संबधित पुलिस अधिकारियों ने बताया कि यह यात्री बस जिला कठुआ के बिलावर से तड़के ही यात्रियों को लेकर निकली थी और करीब साढ़े नौ बजे यहां जम्मू बस स्टैंड पहुंची थी। बस में विस्फोटकों को पहुंचाए जाने की खबर खुफिया एजेंसियों को अपने तंत्र से लग गई थी और जैसे ही बस केसी चौक में आकर रुकी, इसकी तलाशी शुरु की गई। बस में रखी विस्फोटकों की खेप पकड़ी गई।

बस चालक व क्लीनर जिनके नाम विजय और विक्रम हैं, दोनों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है। उन्होंने बताया कि बिलावर में उन्हें एक महिला ने बैग दिया था और कहा था कि जम्मू में आकर एक युवक इसे ले लेगा। बदले में उक्त महिला ने किराए के तौर पर दो सौ रुपये भी दिए थे। चालक और क्लीनर से पूछताछ के आधार पर एक और संदिग्ध को हिरासत में लिया गया है। तीसरा संदिग्ध बिलावर का रहने वाला फारुक बताया जाता है।

पुलिस के मुताबिक, बस चालक व क्लीनर द्वारा बतायी गई महिला का एक स्कैच भी तैयार किया गया है। इस स्कैच को बिलावर व उसके साथ सटे सभी इलाकों में स्थित पुलिस चौकियों व थानों में वितरित किया गया। बस चालक की मानें तो यह महिला स्थानीय ही थी। इस महिला को हर संभव जगह तलाशा जा रहा है। उन्होंने बताया कि इस मामले में खलील नामक एक व्यक्ति से भी पूछताछ की जा रही है। खलील के घर से बीते सप्ताह सुरक्षा एजेंसियों ने खुफिया तंत्र की सूचना पर 30 किलो विस्फोटक बरामद किया था। खलील फिलहाल पुलिस हिरासत में हैं। उसका घर बिलावर के पास स्थित देवल गांव में है।

इस बीच सूत्रों ने बताया कि जिस व्यक्ति ने जम्मू में यह खेप प्राप्त करनी थी, वह मौके पर पहुंचता, उससे पहले ही सुरक्षा एजेंसियों ने बस को अपने कब्जे में ले लिया था। इससे वह अपनी जान बचाते हुए वहां से निकल गया होगा।

खेप के साथ जम्मू एयरपोर्ट, बाड़ी ब्राह्णाा सैन्य छावनी और बस स्टैंड के नक्शों की बरामदगी पर संबधित पुलिस अधिकारियों ने किसी भी तरह की प्रतिक्रिया से बचते हुए कहा कि इस मामले के सभी पहलुओं को ध्यान में रखते हुए जांच की जा रही है। उन्होंने कहा कि पहले बिलावर के पास देवल में विस्फोटकों की बरामदगी और उसके बाद बिलावर से जम्मू में विस्फोटक मिलने की घटना एक बड़ी साजिश का संकेत करती है। उन्होंने कहा कि बिलावर जिला कठुआ काे जिला उधमपुर और जिला किश्तवाड़ से जोड़ता है। यह हिमाचल प्रदेश से भी नजदीक है।

बिलावर से पहले भी 30 किलो विस्फोटक हो चुका है बरामद

इससे पहले भी सेना ने तलाशी अभियान के दौरान बिलावर से 30 किलो विस्फोटक बरामद किया था। यह विस्फोटक सामग्री बिलावर के गांव देवल में खलील अहमद पुत्र सत्तरदीन एक घर से बरामद हुई थी। करीब दो दिन बाद सुरक्षाबलों ने खलील को सुकराला के जंगल से गिरफ्तार कर लिया था। खलील के गिरफ्तार होने के बाद एएसपी, सेना के अधिकारी व अन्य खुफिया एजेंसी बिलावर थाने में डेरा डाले हुए थे। उससे पूछताछ की जा रही है कि इतनी बड़ी मात्रा में विस्फोटक कहां से आया और इसे किस काम के लिए इस्तेमाल किया जाना था।

Posted By: Rahul Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस