राज्य ब्यूरो, जम्मू : राज्य में आतंकियों के खिलाफ एकतरफा संघर्ष विराम के फैसले के खिलाफ पैंथर्स पार्टी ने प्रदर्शन किया। केंद्र सरकार पर महबूबा मुफ्ती के समक्ष घुटने टेकने का आरोप लगाते हुए कार्यकर्ताओं ने भाजपा के खिलाफ नारेबाजी की।

पार्टी के चेयरमेन हर्षदेव ¨सह के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शनी मैदान में बैनर लहराते हुए नारे लगाए। कार्यकर्ताओं ने भाजपा का पुतला भी जलाया। हर्षदेव ने कहा कि हाल ही में रक्षा मंत्री ने सेना प्रमुख के बयान का समर्थन करते हुए कहा था कि आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन बंद नहीं होंगे, लेकिन अब एकतरफा संघर्ष विराम करने की घोषणा कर दी गई। मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती के समक्ष झुकते हुए केंद्र ने संघर्ष विराम का एलान कर दिया। इससे राष्ट्रवादी लोगों का मनोबल गिरेगा। हैरानी की बात है कि आतंकी सुरक्षाबलों पर हमले कर रहे हैं। सुरक्षाबल शहीद हो रहे हैं। ऐसे में इस फैसले का क्या औचित्य है। इसकी क्या गारंटी है कि एकतरफा संघर्ष विराम करने से सुरक्षाबलों पर हमले नहीं होंगे। वर्ष 2000 में तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने संघर्ष विराम का एलान किया। उसके बाद आतंकी गतिविधियों में बढ़ोतरी हुई थी। संसद पर भी हमला हुआ था। ऐसा लगता है कि भाजपा ने अपनी गलतियों से सबक नहीं सीखा है।

यशपाल कुंडल ने कहा कि आतंकियों का कोई धर्म नहीं होता है। आतंकी पर्यटकों पर हमले कर रहे हैं। यह फैसला किसी भी हाल में ठीक नहीं है। प्रदर्शनकारियों में राजेश पडगोत्रा, गगन प्रताप ¨सह, शंकर ¨सह चिब, खजूर ¨सह, निर्मल किशोर, राजेश गांधी, करनैल ¨सह, रछपाल ¨सह, प्रताप ¨सह, महेंद्र ¨सह व अन्य शामिल हुए।

Posted By: Jagran