जम्मू, राज्य ब्यूरो। जम्मू सेना की सोलह कोर के जनरल ऑफिसर कमांडिंग इन चीफ लेफ्टिनेंट जनरल परमजीत  सिंह ने कहा कि घुसपैठ के लिए इस समय करीब 160 आतंकी नियंत्रण रेखा पर लांचिंग पैड पर डेरा डाले हुए हैं।

कोर कमांडर ने कहा कि आतंकवाद को शह देने की पड़ोसी देश की नीति में कोई बदलाव नहीं आया है। पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आइएसआइ व पाकिस्तानी सेना घुसपैठ करवाने के लिए आतंकवादियों को शह दे रही है। हमने ऐसी साजिशों को नाकाम बनाने के लिए नियंत्रण रेखा पर पुख्ता प्रबंध किए हैं।

जीओसी ने ऐसा एक एजेंसी से बातचीत में कहा है। आतंकवाद तभी समाप्त होगा जब पाकिस्तान अपनी नीति व नीयत में बदलाव लाएगा। जीओसी जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद के खिलाफ अभियान में खासी महारत रखते हैं। सेना की सर्जिकल स्ट्राइक की रणनीति बनाने वाले स्पेशल फोर्स के लेफ्टिनेंट जनरल परमजीत ¨सह उत्तरी कमान मुख्यालय में मेजर जनरल, जनरल स्टाफ के अहम पद पर रहे हैं।

उन्होंने वर्ष 2016 में हिज्बुल कमांडर बुरहान वानी को मारे जाने के उपजे कश्मीर घाटी में उपजे हालात से निटपने में भी अहम भूमिका निभाई थी।जीओसी ने बताया कि नियंत्रण रेखा पर घुसपैठ का सारा ढांचा बरकरार है।

वहां मौजूद आतंकवादियों की संख्या 140 से 160 के बीच है। पाकिस्तान नियंत्रण रेखा पर बर्फबारी के दौरान गैर पारंपरिक रास्तों से घुसपैठ करवाने की कोशिश कर सकता है। इसे ध्यान में रखते हुए हर संभव कदम उठाया है। वहीं पाकिस्तान के पुंछ ब्रिगेड पर 107 एमएम के राकेट दागने का हवाला देते हुए कोर कमांडर ने कहा कि मई में डायरेक्टर जनरल ऑफ मिलिट्री ऑपरेशन (डीजीएमओ) स्तर की वार्ता के बाद भी पाकिस्तान बाज नहीं आ रहा है। 

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप