जम्मू, राज्य ब्यूरो : मेडिकल कालेजों में पीजी की पचास प्रतिशत सीटें अखिल भारतीय कोटे में रखने के बाद अब सरकार ने स्पष्ट कर दिया है कि एमबीबीएस की 15 प्रतिशत सीटें भी इस सत्र से अखिल भारतीय कोटे में शामिल कर दी गई हैं। इसके लिए जल्दी ही काउंसलिंग शुरू हो जाएगी। जम्मू और कश्मीर बोर्ड आफ प्रोफेशनल एंट्रेस एग्जामिनेशन की ओर से कहा गया है कि नेशनल टेस्टिंग एजेंसी नई दिल्ली ने अंडर ग्रेजुएट मेडिकल कोर्स में प्रवेश के लिए 16 जुलाई को नीट-यूजी 2022 परीक्षा आयोजित की थी। सात सिंतबर को इसका परिणाम घोषित हुआ था।

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को 26 सितंबर को परीक्षा परिणाम मुहैया करवा दिया था। बोर्ड ने कहा कि इस वर्ष से सरकार ने पंद्रह प्रतिशत सीटें अखिल भारतीय कोटे में रखने का फैसला किया है। बोर्ड ने कहा कि योग्य उम्मीदवारों के लिए आनलाइन और आफलाइन पंजीकरण का शेडयूल भी अलग से जल्दी ही जारी किया जाएगा। उम्मीदवारों को बोर्ड के संपर्क में रहने को कहा गया है। इसके लिए बोर्ड की वेबसाइट से संपर्क में रहने को कहा गया है।

उम्मीदवारों से अपने प्रमाणपत्रों को भी तैयार रखने को कहा गया ताकि अधिसूचना जारी होते ही इन्हें अपलोड किया जा सके। बोर्ड ने यह भी कहा है कि अन्य प्रदेशों के वे विद्यार्थी जो कि नीट-2022 परीक्षा में बैठे और उनका नाम बोर्ड की सूची में नहीं है और वे जम्मू-कश्मीर व लद्दाख के निवासी होने का दावा कर रहे हैं। वे अपने जरूरी दस्तावेज बोर्ड के जम्मू और श्रीनगर स्थित कार्यालयों में तीन अक्टूबर तक ले आएं। बता दें कि अभी एमबीबीएस की सीटों को अखिल भारतीय कोटे में शामिल करने पर यहां के विद्यार्थी विरोध जता रहे थे।

Edited By: Lokesh Chandra Mishra

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट