संवाद सहयोगी, गगरेट : ल्यूमिनस उद्योग के विवाद से अन्य उद्योग भी प्रभावित हुए हैं। सात उद्योगों में कामकाज ठप हो गया है। ल्यूमिनस उद्योग के कामगारों व ट्रक यूनियन के बीच खूनी झड़प होने के बाद प्रशासन ने उद्योग के 500 मीटर के अंदर चार या चार से अधिक लोगों को इकट्ठे होने पर पाबंदी लगा दी है। माहौल खराब होने के कारण अन्य उद्योगों के कर्मचारी भी डरे हुए हैं जिस कारण वे काम पर नहीं पहुंच पा रहे हैं। उद्योगों में उत्पादन बंद होने से उद्योग मालिक भी परेशान हैं।

विधायक से मिले उद्योग मालिक : उद्योग मालिकों ने स्थानीय विधायक राजेश ठाकुर से मुलाकात की और अपनी समस्या रखी। मामले को जल्द से जल्द हल करवाने की मांग की। विधायक ने भरोसा दिया कि जल्द से जल्द स्थिति पहले जैसी जो जाएगी। कहा स्थानीय प्रशासन, फैक्ट्री प्रबंधन, कामगार यूनियन और उद्योग मालिकों को एकसाथ बैठाकर आपसी तालमेल बनाने की कोशिश की जाएगी।

ल्यूमिनस उद्योग से सभी परेशान : वहीं ल्यूमिनस उद्योग के साथ-साथ अन्य उद्योगों पर प्रभाव पड़ने से स्थानीय लोगों में भी रोष है। क्योंकि उद्योगों में काम बंद होने से न सिर्फ कामगार बल्कि ट्रक मालिक, स्थानीय दुकानदार, छोटे मालवाहक संचालकों को भी आर्थिक नुकसान हो रहा है।

ट्रक ऑपरेटर भी निराश : कुछ ट्रक ऑपरेटर भी इस सारे प्रकरण पर निराश नजर आए। उनका कहना था कि ल्यूमिनस उद्योग प्रकरण में उत्पादन बंद होने से सीधा असर उनको हुआ है। यदि यह उद्योग बंद हो जाता है तो ऐसे में ट्रक ऑपरेटर क्या करेंगे। ये सारा विवाद जल्द खत्म होना चाहिए।

------------------

ल्यूमिनस उद्योग दे सुरक्षा की गारंटी

ल्यूमिनस उद्योग की कामगार यूनियन ने उद्योग प्रबंधन से सुरक्षा की मांग की है। कहा जब तक उद्योग प्रबंधन उन्हें सुरक्षा की गारंटी नहीं देता तब तक वे काम पर नहीं लौटेंगे।

----------------------

ल्यूमिनस विवाद के बाद उसके साथ लगते लगभग सात उद्योग बंद है। इस विवाद का असर लगभग क्षेत्र के एक लाख लोगों पर हो रहा है। गगरेट के विधायक राजेश ठाकुर से मुलाकात करके मामले का जल्द से जल्द समाधान करवाने की मांग की है।

-सुरेश शर्मा, इंडस्ट्री एसोसिएशन, गगरेट।

Posted By: Jagran