संवाद सहयोगी, ऊना : प्रदेश सरकार की कोशिश है कि धन की अभाव में कोई भी व्यक्ति मूलभूत सुविधाओं से वंचित न रहे। मुख्यमंत्री राहत कोष से ऐसे ही जरूरतमंद लोगों को आर्थिक दी जाती है जो किसी आपदा या दुर्घटना का शिकार हुए हों या किसी गंभीर बीमार का इलाज करवाने में असमर्थ हों। यह बात सोमवार को रक्कड़ कस्बे में आयोजित कार्यक्रम में 17 लाभार्थियों को छठे राज्य वित्तायोग के अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती को सीएम राहत कोष के चेक प्रदान करते हुए कही।

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने अपने कार्यकाल के दौरान सीएम रिलीफ फंड से ऊना विस क्षेत्र में करीब दो करोड़ रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान की है। जयराम ठाकुर गरीबों के दर्द के प्रति संवेदनशील हैं, इसलिए गरीबों को मदद के लिए हर समय तत्पर रहते हैं। उनके मार्गदर्शन और सहयोग से आज ऊना क्षेत्र एक आदर्श विधानसभा क्षेत्र के रूप में उभर रहा है। करोड़ों रुपये के विकास कार्य प्रगति पर हैं जिन्हें शीघ्र ही पूर्ण करके आने वाले छह माह में जनता को समर्पित कर दिया जाएगा। जिला मुख्यालय पर 22 करोड़ से तैयार किए जा रहे लघु सचिवालय भवन का निर्माण युद्धस्तर पर जारी है जिसका 70 प्रतिशत कार्य पूर्ण कर लिया गया है। मलाहत में पीजीआइ सेटेलाइट सेटर की चारदीवारी का कार्य पूर्ण हो चुका है और अस्पताल के निर्माण का कार्य हाइट्स एजेंसी को दिया गया है। शीघ्र ही अस्पताल का निर्माण आरंभ कर दिया जाएगा।

इस अवसर पर स्थानीय ग्राम पंचायत के प्रधान रोहित सहोड़, अप्पर देहलां के पूर्व प्रधान अमरैल सिंह व पूर्व उपप्रधान रुपिद्र सिंह देहल, मलूकपुर के पूर्व प्रधान हरदयाल सिंह व कानूनगो संजीव कुमार सहित हरमेश प्रभाकर व अन्य उपस्थित रहे।

Edited By: Jagran