संवाद सहयोगी, ऊना : इंटक से संबंधित मिडास केयर वर्कर्स यूनियन ने एक उद्योग पर कामगारों को वेतन न देने के आरोप लगाए गए हैं। यूनियन का आरोप है कि उद्योग प्रबंधन ने कामगारों को लॉकडाउन में भी उद्योग में काम पर बुलाया था। लेकिन लगातार काम करने के बावजूद न तो कामगारों को कंपनी ने कोई सहायता दी है तथा वेतन भी नहीं दिया। जिससे कामगारों को अब दो वक्त की रोटी के लाले पड़ने लगे हैं। रोष स्वरूप कामगारों ने उपायुक्त ऊना संदीप कुमार को ज्ञापन सौंप वेतन दिलाने की मांग की है। यूनियन के अध्यक्ष जसविदर सिंह एवं महासचिव विजय कुमार सहित अन्य पदाधिकारियों ने बताया कि बाथू स्थित एक उद्योग में कोविड-19 के नियमों के अनुसार जितने कामगार उद्योग में काम पर बुलाया गया। वे सभी कामगार नियम के अनुसार काम पर आए। प्रतिदिन काम किया लेकिन आज दिन तक श्रम मंत्रालय के निर्देशानुसार उद्योग प्रबंधन द्वारा उन्हें कोई सहायता व वेतन प्रदान नहीं किया गया है। ऐसे में कामगारों को परिवार का पालन पोषण करना मुश्किल हो चुका है। कामगारों ने प्रशासन एवं सरकार से उचित कदम उठाने की गुहार लगाई है। ताकि कामगारों को जल्द से जल्द सैलरी मिल सके।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस