संवाद सहयोगी, ऊना : मांगों के समर्थन में एनएचएम कर्मचारियों का रोष बढ़ता जा रहा है। शुक्रवार को राज्य स्वास्थ्य समिति (नेशनल हेल्थ मिशन) अनुबंध कर्मचारी संघ के महासचिव गुलशन कुमार की अगुआई में एक प्रतिनिधिमंडल ने एक ज्ञापन मुख्य चिकित्सा अधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर और उच्चाधिकारियों को प्रेषित किया। मांगें पूरी न करने की दशा में कर्मचारियों ने आगामी दो फरवरी से हड़ताल पर जाने की चेतावनी सरकार को दे दी है।

गुलशन कुमार ने बताया कि हिमाचल प्रदेश राज्य स्वास्थ्य समिति (नेशनल हेल्थ मिशन) अनुबंध संघ के कर्मचारीयों ने सरकार को 26 जनवरी तक रेगुलर स्केल की मांग को पूरी करने का अल्टीमेटम दिया है। यदि कर्मचारियों की रेगुलर पे स्केल की मांग को पूरा किया जाता है तो ठीक अन्यथा कर्मचारियों को मजबूरन दो फरवरी से हड़ताल का रास्ता भी अपनाना पड़ सकता है। उन्होंने कहा कि एनएचएम कर्मचारी हड़ताल जब तक रेगुलर पे स्केल की मांग नहीं मानी जाती तब तक जारी रख सकते हैं जिसकी जिम्मेदारी सरकार की होगी क्योंकि हिमाचल प्रदेश में स्वास्थ्य विभाग राज्य समिति के अंतर्गत नियुक्त 1700 कर्मचारी, जोकि विभिन्न स्वास्थ्य समितियों के अंतर्गत पिछले 23 वर्षों (1996) से स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के अंतर्गत अपनी सेवाएं दे रहे हैं, परंतु प्रदेश सरकार की ओर से न तो आज दिन तक इन कर्मचारियों का नियमितीकरण किया गया है और न ही रेगुलर पे स्केल का लाभ इन्हें दिया गया है। अन्य राज्यों हरियाणा, मणिपुर, छत्तीसगढ़, मिजोरम, आंध्र प्रदेश ने अपने इन कर्मचारियों के लिए स्थायी नीति बना दी है। इस मौके पर संघ के जिला महासचिव डा. रमन संदल, प्रेस सचिव मनीष कुमार सहित कई कर्मचारी मौजूद रहे।

Edited By: Jagran