अभिषेक कुमार, तूतड़ू

बारिश हो तो एचआरटीसी की बसों में छाता लेकर जाएं, क्योंकि बारिश में निगम की कई बसों की छतों से पानी टपक रहा है। इन बसों में सीट संभालने से पहले देख लें, सीट बारिश के पानी से भी भरी हो सकती है। अधिकांश बसों की छतें टपक रही हैं। इस समस्या के चलते बस के भीतर यात्रियों के बैठने के लिए लगी सीट भी गीली हो जाती हैं।

कुछ ऐसा ही हाल है एचआरटीसी बसों का। शनिवार को बारिश हो रही थी। कालका से ऊना रूट पर एक एचआरटीसी की बस आ रही थी। बस की छत से पानी टपक रहा था। यात्रियों ने बताया पानी टपकने से आधी के करीब सीटें गीली थीं। एक यात्री ने तो उच्च अधिकारियों को फोन कर दिया। इस पर उन्होंने बस की जांच करने का आश्वासन दिया।

यात्री संजीव कुमार, निखिल कुमार, अशोक, अमरीक सिंह, पुरुषोत्तम चंद, नरेंद्र कुमार, बलदेव सिंह, संसार चंद, नरोत्तम दास, कृष्ण कुमार, बलवीर सिंह, सुरेश कुमार, साहिल, साहिब कुमार ने कहा निगम की बसों की टपकती छतों से यात्रियों को परेशानी होती है। हद तो तब होती है जब चलती बस में यात्रियों को छाता खोलकर बैठना पड़ता है। निगम प्रबंधन को कई बार समस्या के प्रति अवगत करवाया जा चुका है लेकिन अभी तक समस्या का समाधान नहीं हो पाया है। शनिवार को यात्रियों को कालका से ऊना रूट पर टपकती छत वाली बस में सफर करना पड़ा। लोगों ने निगम प्रबंधन से मांग की कि समस्या का जल्द समाधान किया जाए।

-------------

समस्या मेरे ध्यान में आई है। उच्चाधिकारियों को समस्या के बारे में बताया गया है।जल्द ही समाधान कर दिया जाएगा।

-जगन्नाथ, क्षेत्रीय प्रबंधक, ऊना।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस