संवाद सहयोगी, चितपूर्णी : शारदीय नवरात्र के पांचवें दिन करीब सात हजार श्रद्धालुओं ने मां के चरणों में शीश नवाया। वीरवार को श्रद्धालुओं की संख्या में आंशिक वृद्धि दर्ज की गई। वहीं बुधवार शाम चार बजे से लेकर वीरवार शाम चार बजे तक दर्शन पर्ची काउंटर से 9598 श्रद्धालु पर्ची ले चुके थे।

प्रशासन ने मंदिर के कपाट देर रात ही खोल दिए गए थे। ऐसे में श्रद्धालुओं को अपनी बारी के लिए लंबा इंतजार नहीं करना पड़ा, लेकिन दोपहर को दर्शन की लाइनें लंबी खिच गई। शाम तक लाइनें मुख्य बाजार के समीप थीं। पिछले चार दिन के मुकाबले दरबार में श्रद्धालुओं की संख्या में बढ़ोतरी तो हुई है, लेकिन पिछले वर्ष की अपेक्षा इस बार श्रद्धालुओं की संख्या में कमी दर्ज हुई है। मंदिर अधिकारी हरि सिंह ने बताया कि मेला शांतिपूर्वक चला हुआ है। श्रद्धालुओं को बेहतर सुविधाएं देने का प्रयास न्यास द्वारा किया जा रहा है। मेले में सफाई व्यवस्था का पूरा ख्याल रखा जा रहा है। मेले में भिखारियों को खदेड़ने के दिशा-निर्देश भी संबंधित अधिकारियों को दिए गए हैं।

---------

अब हर निरंतर होगा धार्मिक संस्थाओं का निरीक्षण-

चोरी-छिपे डिस्पोजेबल और थर्मोकोल की सामग्री का प्रयोग करने वाली धार्मिक संस्थाओं के लंगरों में मेला प्रशासन हर रोज निरीक्षण करेगा। इसके अलावा खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के खाद्य निरीक्षक भी मेला क्षेत्र में विजिट करेंगे। लंगरों में प्रतिबंधित डोने, पत्तल व गिलास के प्रयोग को लेकर प्रशासन गंभीर हो गया है। मंदिर अधिकारी हरि सिंह ने बताया कि अगर डिस्पोजेबल सामग्री का प्रयोग लंगर में किया गया तो चालान के अलावा ऐसी संस्थाओं को ब्लैक लिस्ट करने से भी परहेज नहीं किया जाएगा।

-----------

चार नवरात्र में चढ़ा 34.50 लाख का चढ़ावा

शारदीय नवरात्र मेले के पहले चार नवरात्र में श्रद्धालुओं ने मां के चरणों में 34,54,887 रुपये का चढ़ावा भेंट किया है। मंदिर कार्यालय के मुताबिक नवरात्र के चौथे दिन श्रद्धालुओं ने 7,45,537 रुपये मां के दरबार में भेंट किए। इसके अलावा 39 ग्राम सोना, 410 ग्राम चांदी, 15 कनाडा डॉलर, 80 इंग्लैंड पौंड और तीन यूएसए डॉलर भी मां के भेंटपात्रों से न्यास को प्राप्त हुए हैं।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप