जागरण संवाददाता, ऊना : ग्रामीण क्षेत्रों में सड़क, स्वास्थ्य, शिक्षा सहित सभी मूलभूत सुविधाओं को सुदृढ़ करना प्रदेश सरकार की प्राथमिकता है। यह बात पंचायती राज मंत्री वीरेंद्र कंवर ने रविवार को धतोल पंचायत में 34 लाख रुपये से बनने वाली दो संपर्क सड़कों और माता जमासणी देवी मंदिर के समीप 10 लाख रुपये से बनने वाली पंचवटी व खेल मैदान की आधारशिला रखते हुए कही।

उन्होंने बताया कि पंचवटी योजना का मुख्य उद्देश्य वरिष्ठ नागरिकों के लिए सैरगाह, बच्चों को मनोरंजन के लिए झूले एवं युवाओं के लिए ओपन जिम की सुविधा प्रदान करना है। इसके अलावा पेड़-पौधों से युक्त इन पंचवटी वाटिकाओं के माध्यम से मानव का प्रकृति के साथ रिश्ता मजबूत करना भी लक्ष्य है। बंगाणा उपमंडल के अंर्तगत लगभग तीन करोड़ रुपये की लागत से 48 पंचवटी वाटिकाएं विकसित की जाएंगी। इनमें से 19 वाटिकाओं का निर्माण कार्य प्रगति पर है, जिन्हें मार्च 2022 तक पूर्ण कर जनता को समर्पित करने का लक्ष्य रखा है। इन वाटिकाओं में विभिन्न प्रकार के औषधीय व सजावटी पौधे, पैदल पथ, मनोरंजन के उपकरण, बैठक के लिए उचित व्यवस्था व अन्य बुनियादी सुविधाएं मुहैया करवाई जाएंगी।

इसके बाद कंवर ने ननावीं में अमर शहीद बृजेश कुमार प्रवेश द्वार, रेन शेल्टर और हिम ईरा शाप का उद्घाटन भी किया। उन्होंने कहा कि ननावीं हिमाचल के लिए पहला माडल गांव है जहां अमर शहीद के नाम से प्रवेश द्वार, रेन शेल्टर और हिम ईरा शाप का निर्माण किया गया है। बैरी में निर्माणाधीन पंचवटी को भी शहीद बृजेश कुमार का नाम दिया जाएगा।

कंवर ने कहा कि कुटलैहड़ में सड़कों के निर्माण पर 250 करोड़ रुपये खर्च किए जा रहे हैं। बंगाणा में करोड़ से बीडीओ कार्यालय भवन का निर्माण प्रगति पर है। वहीं 150 करोड़ से अधिक धन राशि पेयजल योजनाओं पर व्यय की जा रही है। बंगाणा में इंडोर स्टेडियम का निर्माण प्रगति पर है, जबकि शीघ्र ही यहां बस अड्डे का निर्माण भी आरंभ किया जाएगा।

इस अवसर पर प्रधान धतोल बलबिंद्र सिंह, बीडीसी अध्यक्ष देवराज शर्मा, हिमफेड के निदेशक चरणजीत सिंह, धतोल उपप्रधान अवतार, ननांवी की प्रधान सषमा व उपप्रधान रमन कुमार, कैप्टन गुरदास राम, बीडीओ बंगाणा यशपाल परमार व तहसीलदार राहुल शर्मा समेत कई पंचायत प्रतिनिधि उपस्थित रहे।

Edited By: Jagran