मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जागरण संवाददाता, जालंधर : प्रेम प्रस्ताव ठुकराने और सगाई की बात का पता चलने से गुस्साए ऊना निवासी फौजी मौसेरे भाई ने ही लैब तकनीशियन युवती पर अपनी बुआ के लड़के के साथ साजिश रचकर एसिड पाउडर फिंकवाया था। इसके लिए उसने लुधियाना के दो युवकों को 25 हजार रुपये की सुपारी दी थी। पुलिस ने मुख्य आरोपित फौजी समेत तीन को गिरफ्तार किया है। हालांकि युवती पर एसिड पाउडर डालने वाला अभी फरार है।

शनिवार को पुलिस कमिश्नर गुरप्रीत ¨सह भुल्लर ने डीसीपी गुरमीत ¨सह व एडीसीपी डी सुडरविली के साथ प्रेस कांफ्रेंस कर इसका खुलासा किया। बताया 17 सिख रेजिमेंट में असम में तैनात सिपाही गुरदीप ¨सह (28) निवासी डिट्टा गांव युवती से प्रेम करता था। उसने युवती के आगे प्रस्ताव रखा तो उसने इन्कार कर दिया। इसके बाद परिवार वालों ने किसी लड़के से युवती की सगाई की बातचीत चला दी। इस दौरान कोलकाता के कमांड अस्पताल में भर्ती बीमार फौजी सिपाही गुरदीप ¨सह मेडिकल लीव पर अपने गांव डिट्टा, थाना हरोली जिला ऊना आया हुआ था। जब यह बात गुरदीप को पता चली तो वह गुस्से में आ गया। उसने अपनी बुआ के लड़के जस¨वदर ¨सह उर्फ जस्सी निवासी पंजावर को पूरी बात बताई। जस¨वदर लुधियाना में हौजरी का काम करता है। दोनों ने मिलकर युवती पर एसिड फेंकने की साजिश रची। खुद यह काम करने के बजाय जस¨वदर ने लुधियाना के मोती नगर की गज्जा जैन कॉलोनी निवासी मनी से संपर्क किया। मनी भी लुधियाना में कपड़ा रंग करने की फैक्ट्री में सफाई सेवक था। मनी के जरिए वो लुधियाना में प्रीत से मिला, जो कोई काम नहीं करता था। मनी और प्रीत के साथ जस¨वदर ने एसिड फेंकने के लिए 25 हजार में सौदा तय कर लिया और पांच हजार एडवांस दे दिए। जस¨वदर ने अपनी बाइक दोस्त के अधूरे कागजात वाली स्पलेंडर बाइक के साथ बदल ली और दोनों आरोपितों को दे दी। इसके बाद चारों आरोपितों ने युवती की ट्रांसपोर्ट नगर घर से रामा मंडी स्थित जौहल अस्पताल आने की रेकी शुरू की। 26 व 28 जनवरी को युवती नहीं आई। फिर 29 जनवरी को उन्होंने शाम को युवती का पीएपी चौक से ट्रांसपोर्ट नगर तक पीछा किया। वहां गुरदीप ने मनी व प्रीत को युवती की शिनाख्त करा दी। घटना वाले दिन यानी 30 जनवरी को मनी व प्रीत सुबह पांच बजे ही ट्रांसपोर्ट नगर पहुंच गए। युवती घर से निकलकर पीएपी चौक के लिए ऑटो में बैठी तो दो बाइक में सवार चारों आरोपितों ने पीएपी चौक तक उसका पीछा किया। जैसे ही युवती पीएपी चौक से रामा मंडी ऑटो लेने के लिए निकली तो मनी बाइक स्टार्ट करके खड़ा रहा और प्रीत ने एसिड पाउडर युवती पर फेंक दिया। इसके बाद चारों लुधियाना फरार हो गए। वहां गुरदीप ने उन्हें बकाया 20 हजार दिए। फिर जस¨वदर व गुरदीप अपने घर ऊना भाग निकले, जहां से पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार किया। उनसे पूछताछ के बाद मनी को लुधियाना से पकड़ा गया। पुलिस कमिश्नर ने दावा किया कि युवती पर बाथरूम साफ करने वाला तेजाब फेंका गया, जो मनी के पास था। हालांकि युवती का इलाज करने वाले डॉक्टर इसे ब्लीच जैसा पाउडर बता चुके हैं। आरोपितों से दो बाइक (एचपी 72बी-8405) पल्सर व (पीबी10डीआर-9975) स्पलैंडर व तीन मोबाइल फोन भी बरामद किए गए।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप