जागरण संवाददाता, सोलन : कई दिन से विजिलेंस से आंख मिचौली खेलने वाले असिस्टेंट ड्रग कंट्रोलर (एडीसी) निशांत सरीन को वीरवार को सोलन की अदालत में पेश किया गया, जहां से उसे पांच दिन के रिमांड पर भेज दिया। बुधवार को एडीसी की हाई कोर्ट में अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी थी। उसके बाद विजिलेंस की टीम ने उसे शिमला में ही गिरफ्तार कर लिया था।

सरीन की शिकायत का मामला सोलन स्टेट विजिलेंस एंड एंटी क्रप्शन ब्यूरो से जुड़ा है। सोलन में डीएसपी विजिलेंस विजय शर्मा, इंस्पेक्टर विजय कुमार व एचसी सतीश कुमार के नेतृत्व में शिमला से सरीन को जिला एवं सत्र न्यायालय सोलन लाया गया। उसे जिला एवं सत्र न्यायाधीश भूपेश शर्मा की अदालत में पेश किया गया। विजिलेंस टीम आरोपित को शिमला ले गई, जहां उससे पूछताछ करेगी। क्या था मामला :

विजिलेंस ने सरीन के खिलाफ 21 अगस्त को मामला दर्ज किया था। 23 अगस्त को भ्रष्टाचार के मामले में विजिलेंस ने चंडीगढ़, पंचकूला, बद्दी, बिलासपुर व शिमला में उसके सात ठिकानों पर एक साथ छापामारी की थी। इसमें बेनामी संपत्ति के कई दस्तावेज हाथ लगे। उसके बाद से सरीन फरार हो गया था। उच्च न्यायालय के आदेश पर वह बुधवार को हाई कोर्ट में पेश हुआ। अग्रिम जमानत की याचिका खारिज होते ही विजिलेंस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। -----------

एडीसी निशांत सरीन को पांच दिन का पुलिस रिमांड मिला है। इस दौरान उनसे पूछताछ की जाएगी। उनके ठिकानों पर मिली संपत्ति और शिकायत के मुताबिक मिले दस्तावेजों के आधार पर मामले की जांच होगी। मामले में अगर वह दोषी पाया गया तो आगामी कार्रवाई शुरू की जाएगी।

-अनुराग गर्ग, एडीजीपी, राज्य सतर्कता एवं भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप