संवाद सहयोगी, कसौली (सोलन) : हिमाचल प्रदेश के कसौली में शनिवार को आठवें खुशवंत सिंह लिटफेस्ट के दूसरे दिन 'कश्मीर इमपरफेक्ट एंड फ्यूचर टेन्स' विषय पर तीखी चर्चा हुई। चर्चा में शामिल भारतीय सेना से सेवानिवृत्त लेफ्टिनेंट जनरल अता हसनैन पकिस्तान पर खूब बरसे। उन्होंने कहा कि भारतीय सेना पाक अधिकृत कश्मीर पर ही नहीं बल्कि पाकिस्तान पर भी कब्जा कर सकती है। भारतीय सेना पर हमें गर्व है।

उन्होंने केंद्र सरकार को सलाह दी कि अंतराष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान को कमजोर करने के लिए जो किया जाना चाहिए, सरकार को वह प्रयास करने चाहिए। इस दौरान केंद्र सरकार द्वारा जम्मू और कश्मीर से हटाए अनुच्छेद 370 के विरोध में भी आवाज उठी। पैनल डिस्कशन में लेखिका राधा कुमार, लेखक व भाजपा प्रवक्ता तुहिन सिन्हा, वरिष्ठ पत्रकार तवलीन सिंह पैनल के रूप में जबकि लेफ्टिनेंट जनरल रि. अता हसनैन वार्ताकार के रूप में शामिल थे। राधा कुमार ने कहा कि अनुच्छेद 370 हटाने के लिए केंद्र सरकार कश्मीरियों से माफी मांगे और उसे फिर लागू करे। राधा कुमार व तवलीन सिंह ने बड़ी बेबाकी के साथ अनुच्छेद 370 को हटाने के विरोध में अपनी राय रखी। तुहीन सिंहा ने केंद्र सरकार के इस निर्णय का बचाव किया। राधा ने अपनी नई पुस्तक पैराडाइज एट वार में कश्मीर की समस्याओं का उल्लेख किया है। उन्होंने बताया कि वर्ष 2010 में केंद्र सरकार ने राजनीतिक दलों व अलगाववादियों से शांति दल भेजा था। उस दल में वह भी थीं। केंद्र सरकार ने उस समय इस दल के सुझावों को लागू किया होता तो कश्मीर में आज शांति बहाल होती। हैरानी है कि विपक्ष के विरोध के कारण केंद्र सरकार ने इस शांति दल की सिफारिश पर चर्चा ही नहीं की। तवलीन ने कहा कि केंद्र सरकार ने बिना सोचे समझे अनुच्छेद 370 को हटा दिया। तुहीन सिन्हा ने केंद्र सरकार के निर्णय का बचाव करते हुए कहा कि इसके हटने के बाद कश्मीर में विकास होगा।

......... बुरहान बानी को सस्पेक्टिड आतंकी बताने पर विवाद

सेशन के दौरान आतंकी बुरहान बानी को लेकर भी चर्चा हुई। राधा कुमार ने अपनी नई किताब पैराडाइज ऑफ वार में उसे आतंकी नहीं सस्पेक्टिड आतंकी करार दिया। इसको लेकर विवाद भी हो गया। यही नहीं वर्ष 2016 से 2018 के बीच कश्मीर में चले ऑपरेशन ऑलआउट पर भी चर्चा हुई। सेना के इसी ऑपरेशन में बुरहान वानी मारा गया था। हालांकि बाद में राधा कुमार ने स्पष्ट किया कि पब्लिशर की गलती के कारण किताब में बुरहान बानी सस्पेक्टिड आतंकी प्रकाशित हुआ है।

इन मुद्दों पर भी हुई चर्चा

लिटफेस्ट में आए मेहमानों में कई चर्चित मुद्दों पर जमकर बहस भी हुई। इस दौरान ज्यादातर कश्मीर, कश्मीरियों, आंतकवाद, अनुच्छेद 370 और पाकिस्तान पर भी चर्चा हुई। फिल्मी दुनियां से शुरू हुए सत्र का अंत जलियांवाला बाग हत्याकांड के 100 वर्ष पूरे होने पर चर्चा से हुआ। टीवी न्यूज एंकर सागरिका घोष और सैफ महमूद के बीच स्टेट पॉवर ऑफ लिबरल वेल्यूज व कश्मीर पास्ट इमपरफेक्ट, फ्यूचर टेन्स विषय पर कश्मीर मसले की जानकार व लेखिका राधा कुमार, तलवीन सिंह और तुहिन ए सिन्हा के बीच चर्चा हुई। कारगिल के 20 वर्षो के बाद संत पापी विषय पर संत रामदेव व रामरहीम के जीवन पर चर्चा की गई। इसके बाद दूसरे दिन का अंतिम सत्र जलियांवाला बाग हत्याकांड पर चर्चा के साथ समाप्त हुआ। आज शबाना व मनीषा आकर्षण का केंद्र

तीन दिन तक चलने वाले खुशवंत सिंह लिटफेस्ट के अंतिम दिन रविवार को फिल्म अभिनेत्री शबाना आजमी व मनीषा कोइराला आकर्षण का केंद्र रहेंगी। शबाना आजमी कैफी आजमी जबकि मनीषा कोइराला हीरोइन टू बी हील्ड पर चर्चा करेंगी। हिदू जागरण मंच के कार्यकर्ताओं ने की नारेबाजी

लिटफेस्ट के दौरान शनिवार देर शाम हिदू जागरण मंच के कार्यकर्ताओं ने लिटफेस्ट का विरोध जताया। उन्होंने कसौली क्लब के बाहर पहुंचकर नारेबाजी की। उनका कहना था कि देश विरोधी गतिविधियों को किसी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। खुशवंत सिंह एक महान लेखक एवं साहित्यकार थे लेकिन यहां साहित्य की आड़ में देश व सेना के खिलाफ ब्यानबाजी हो रही है। हिमाचल के परमवीर चक्र विजेताओं के अभिभावकों को किया सम्मानित

कारगिल विजय दिवस के 20 वर्ष पूरे होने के ऊपर रखे गए सत्र के दौरान हिमाचल के शहीदों को याद किया गया। हिमाचल के परमवीर चक्र विजेताओं शहीद कैप्टन विक्रम बतरा व सूबेदार संजय कुमार और शहीद सौरव कालिया की बहादुरी को सलाम किया गया। इस दौरान कैप्टन बिक्रम बतरा के माता-पिता को सेना के अधिकारियों व फेस्ट के आयोजकों ने सम्मानित किया और उनकी तस्वीर का भी विमोचन किया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप