जागरण संवाददाता, सोलन : नशा एक ऐसी बुराई है जो हमारे जीवन को नष्ट कर देती है। नशे की लत से पीड़ित व्यक्ति परिवार के साथ-साथ समाज पर बोझ बन जाता है। वर्तमान में हमारी युवा पीढ़ी सबसे अधिक नशे की लत का शिकार हो रही है। यह जानकारी सोमवार औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (आइटीआइ) सोलन में शिक्षा क्रान्ति संस्था के सत्यन ने पीयर एजुकेशन डे के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में उपस्थित अध्यापकों एवं छात्रों को दी। कार्यक्रम प्रदेश सरकार की ओर से 15 दिसंबर तक कार्यान्वित किए जा रहे मादक द्रव्य एवं मदिरा व्यसन के विरुद्ध जागरूकता के लिए अभियान के तहत आयोजित किया गया। कार्यक्रम में आइटीआइ सोलन के 725 प्रशिक्षुओं एवं अध्यापकों को नशे के विरूद्ध जागरूक किया गया।

आइटीआइ सोलन के प्रधानाचार्य चमन लाल तनवर ने पीयर एजुकेशन डे के अवसर पर छात्रों को बधाई दी। उन्होंने छात्रों से नशा न करने का आग्रह किया। शिक्षा क्रांति की स्वयंसेविका नीलम राजपूत, मनीषा ठाकुर, आइटीआइ सोलन के समूह अनुदेशक परेश शर्मा ने भी इस अवसर पर विचार व्यक्त किए। इस अवसर पर छात्रों को नशे के विरूद्ध शपथ भी दिलवाई गई। इस अवसर पर शिक्षा क्रांति संस्था के स्वयंसेवी, आइटीआइ सोलन के कर्मचारी व छात्र उपस्थित थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस