नालागढ, जेएनएन। नालागढ़ के सैणी माजरा के एक अधेड़ व्यक्ति की सरसा नदी में बहने से मौत हो गई है। मृतक व्यक्ति का शव सैणी माजरा से 16 किमी दूर पंजाब के रणजीत पुरा में मिला है। मृतक के परिजनों ने स्वयं शव को ढूंढा व पुलिस के हवाले किया। पुलिस ने दोपहर बाद शव को नालागढ़ चिकित्सालय में पोस्टमार्टम कराने के बाद अंतिम संस्कार के लिए सौंप दिया है। मृतक अपने पीछे दो बेटे व दो बेटियों को छोड़ गया है। 

नालागढ़ के सैणी माजरा के 47 वर्षीय धर्मपाल सिंह सैणी माजरा में सड़क के साथ हलवाई की दुकान पर मजदूरी करता था। 15 अगस्त को रक्षाबंधन के दिन उसकी शादीशुदा बड़ी बेटी घर पर आई हुई थी। इसके चलते वह दुकान से जल्दी ही घर के लिए रवाना हो गया। सांय साढ़े चार बजे वह घर के लिए निकला तो जैसे ही वह सरसा नदी पार करने लगा तो अचानक नदी में पानी आ गया और वह पानी के बहाव में बह गया। वहां पर नदी के किनारे खड़े लोगों ने इसे बहते हुए देखा। इन लोगों ने शोर मचाया, लेकिन पानी का बहाव इतना तेज था कि धर्मपाल का कोई पता नहीं चला। 

शाम के समय मृतक के परिजन व गांव के लोग उसे खोजते रहे, लेकिन उसका कहीं पर कोई पता नहीं लग पाया। शुक्रवार को सुबह दस बजे पंजाब के रणजीतपुरा के समीप लोगों ने उसका शव रेत में दबा हुआ देखा और उसे निकालकर पुलिस के हवाले किया। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम कराने के बाद अंतिम संस्कार के लिए सौंप दिया। शुक्रवार शाम को मृतक का अंतिम संस्कार किया गया। जहां पर सैंकड़ों लोगोें ने उसे नम आंखों से अंतिम विदाई दी। उधर, डीएसपी चमन लाल ने घटना की पुष्टि की है कि शव का पोस्टमार्टम करा दिया है। प्रारंभिक जांच में मौत का कारण पानी में डूबना ही लग रहा है। मृतक का बिसरा जांच के लिए फोरेसिंग लैब भेज दिया जाएगा जिससे मौत के कारणों का पता लग पाएगा।

हिमाचल प्रदेश की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Babita kashyap