मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जागरण संवाददाता, नाहन : जिला निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुक्त सिरमौर ललित जैन ने सभी राजनीतिक दलों को निर्देश दिए हैं कि वह प्रिट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पर विज्ञापन जारी करने से पूर्व इसका प्रमाणीकरण अनिवार्य रूप से करवाएं। इसके लिए भारतीय निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार जिला स्तरीय मीडिया प्रमाणीकरण एवं निगरानी समिति का गठन किया गया है। उन्होंने कहा कि जिला स्तरीय मीडिया प्रमाणीकरण एवं निगरानी समिति प्रिट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पर प्रकाशित एवं प्रसारित होने वाले सभी प्रकार के विज्ञापनों पर 24 घंटे नजर रखे हुए है। एमसीएमसी को जिला लोक संपर्क अधिकारी कार्यालय नाहन में स्थापित किया गया है। इस केंद्र में इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पर प्रसारित होने वाले विज्ञापनों का आइटी विशेषज्ञों द्वारा अवलोकन किया जा रहा है। विज्ञापन और पेड न्यूज की श्रेणी में आने वाले समाचार पत्रों के व्यय को संबंधित राजनीतिक पार्टी के प्रत्याशी के चुनावी खर्च में जोड़ा जाएगा। उपायुक्त ने जिले में कार्यरत सभी केबल ऑपरेटरों को भी निर्देश दिए हैं कि वो अपने केबल नेटवर्क पर ऐसे कोई भी विज्ञापन और ओडियो-विजुअल प्रदर्शित न करें, जिनका प्रमाणीकरण एमसीएमसी द्वारा न किया गया हो। उन्होंने मीडिया से आग्रह किया कि वह भारत निर्वाचन आयोग द्वारा जारी निर्देशिका के अनुरूप ही चुनाव संबंधी समाचारों को प्रकाशित अथवा प्रसारित करें। उन्होंने कहा कि स्वतंत्र एवं निष्पक्ष चुनाव करवाने में मीडिया का विशेष योगदान रहता है और भ्रामक समाचारों के प्रकाशन एवं प्रसारण करने में गुरेज रखें, ताकि शांतिपूर्ण ढंग से चुनाव संपन्न करवाए जा सकें।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप