नाहन, जेएनएन। जिला सिरमौर में सोमवार को निजी बस ऑपरेटरों की हड़ताल के चलते यात्रियों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ा। प्रदेश स्तरीय हड़ताल के चलते जिला सिरमौर में 180 निजी बसों के पहिए सोमवार तड़के से थम गए। जिसके चलते लोगों को सरकारी बसों की छत पर सफर करना पड़ा या उन्हें महंगा किराया देखकर टैक्सियां में सफर को मजबूर होना पड़ा।

अधिकतर बस स्टॉपों पर सवारियां बसों के इंतजार में  दिखी। मगर निजी बसें ना होने के चलते सरकारी बसों में ओवरलोडिंग होती आम नजर आई। कुछ यात्रियों ने तो जब बसें ना मिली, तो मालवाहक वाहनो, जैसे पिकअप व टेंपो में ही सफर को मजबूर हो गए। जिला सिरमौर के शिलाई, श्रीरेणुकाजी, त्रिलोकपुर, राजगढ़ व शिमला रूट पर अधिकतर निजी बसें हैं। सिरमौर निजी बस ऑपरेटर सोसाइटी के सचिव अखिल शर्मा ने बताया कि जिला सिरमौर में 180 निजी बसें है, जोकि जिला के ग्रामीण व मुख्य रूटों पर अपनी सेवाएं देते है।

 

सोमवार तड़के से सभी निजी बसें हड़ताल पर है। इस दौरान निजी बस ऑपरेटरों को पहले दिन ही करीब 9 लाख रूपये का नुकसान जिले में झेलना पड़ेगा। वहीं एचआरटीसी नाहन डिपो के एआरएम राशिद शेख ने बताया कि जिला सिरमौर में 11:30 बजे तक निगम की 25 बसों ने 30 रूटों पर अपनी अतिरिक्त सेवाएं दी है। जिला के सभी रूटों पर अभी निगम की बसें 30 चक्कर ला चुकी है। ताकि यात्रियों को परेशानियों का सामना ना करना पड़े। निगम के सभी स्टॉफ की छुटिट्यां निजी बसों की हड़ताल को देखते हुये रद्द कर दी गई है। 

Posted By: Babita