जागरण संवाददाता, नाहन : जिला सिरमौर में सोमवार को निजी बस ऑपरेटरों की हड़ताल के कारण यात्रियों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ा। प्रदेश स्तरीय हड़ताल के चलते जिला सिरमौर में 180 निजी बसों के पहिये सोमवार तड़के से थम गए। लोगों को सरकारी बसों की छत पर सफर करना पड़ा या उन्हें महंगा किराया देखकर टैक्सियां करनी पड़ीं। अधिकतर बस स्टॉपों पर सवारिया बसों के इंतजार में दिखी। कुछ लोगों को जब बसें नहीं मिलीं तो मालवाहकों में सफर किया।

जिला सिरमौर के शिलाई, श्रीरेणुकाजी, त्रिलोकपुर, राजगढ़, श्रीरेणुकाजी व शिमला-सोलन रूट पर अधिकतर निजी बसें हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को बसें न मिलने से परेशानी का सामना करना पड़ा। दी सिरमौर निजी बस ऑपरेटर सोसायटी के सचिव अखिल शर्मा व मुख्य सलाहकार रणबीर ठाकुर ने बताया कि जिला सिरमौर में 180 निजी बसें है, जोकि जिला के ग्रामीण व मुख्य रूटों पर अपनी सेवाएं देती हैं। इस दौरान निजी बस ऑपरेटरों को करीब नौ लाख रुपये का नुकसान जिला में झेलना पड़ेगा। वहीं एचआरटीसी नाहन डिपो ने सोमवार को 55 रूटों पर निगम की अतिरिक्त बसें चलाई। एचआरटीसी नाहन ने नाहन-कालाअंब-त्रिलोकपुर रूट पर 15 चक्कर, नाहन-पावटा रूट पर 11 चक्कर, शिलाई रूट पर 16 व जिला के अन्य ग्रामीण रूटों पर 15 चक्कर अपने नियमित रूटों के अतिरिक्त लगाए। इससे निगम को करीब दो से 2.50 लाख की अतिरिक्त आय हुई है। -------

जिला सिरमौर में निगम की करीब 25 बसों ने 55 रूटों पर अपनी अतिरिक्त सेवाएं दी हैं। निगम के सभी स्टॉफ की छुट्टियां भी निजी बसों की हड़ताल को देखते हुए रद कर दी गई हैं।

-राशिद शेख, आरएम एचआरटीसी नाहन।

Posted By: Jagran