जागरण संवाददाता, नाहन : शुक्रवार दोपहर को शिलाई के बकरास में हुए बसपा नेता केदार जिंदान की मौत के प्रकरण में जातिवाद की राजनीति चमकाने को लेकर सर्वसमाज के लोगों ने सतौन में रैली निकालकर विधायक राकेश सिंघा के खिलाफ जमकर प्रर्दशन किया। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने माकपा नेता और ठियोग के विधायक राकेश सिंघा का पुतला फूंका। सर्व समाज के लोगों आरोप है कि बकरास में हुए केदार जिंदान प्रकरण मामले को माकपा नेता द्वारा जातीय हिसा के नाम पर लोगों को गुमराह किया गया। ग्रामीणों ने कहा कि राकेश सिंघा द्वारा वोट बैंक की राजनीति को गिरीपार के लोग किसी भी सूरत में सहन नहीं करेगे। सतौन पंचायत के प्रधान रजनीश चौहान, पूर्ण ठाकुर, सतीश शर्मा, सतीश चौहान, पूर्व प्रधान मामराज कपूर, इंद्र सिंह, खजान सिंह चौहान, कुलदीप ठाकुर, जय सिंह, नरेश चौहान, चतर कपूर, राजेंद्र शर्मा, अरविंद चौहान आदि ने बताया कि बकरास में केदार सिंह जिंदान के मौत के मामले में ठियोग के विधायक राजनीति चमकाने के लिए इस मामले को जातीय हिंसा का रूप देने का प्रयास कर रहे हैं, जबकि गिरीपार क्षेत्र में इस तरह का कोई माहौल नहीं है। लोगो ने प्रशासन से माग कि इस मामले को जातीय हिसा का नाम देने और शिलाई में आकर भडकाऊ भाषण देने के लिए सिंघा के खिलाफ मामला दर्ज किया जाये। जिंदान का श्रद्धाजलि कार्यक्रम 20 को

अखिल भारतीय कोली समाज ने केदार हत्याकाड को लेकर किए जा रहे प्रदर्शन को जातिवाद की प्रकाष्ठा करार दिया है। उनका कहना है कि पोस्टमार्टम की रिपोर्ट में खुलासा हो चुका है कि जिंदान को पहले डडों से मारा गया। उसके बाद उसे गाड़ी चढ़ा कर कुचला गया। इसके बाद भी कुछ लोग आरोपितों के पक्ष में खड़े नजर आ रहे है। जोकि सरासर अनुचित है। बैठक में उपस्थित पदाधिकारियों ने एकमत से ठियोग के विधायक राकेश सिंघा का इस मुद्दे को उठाने के लिए आभार भी प्रकट किया। बैठक में पूर्व प्रदेश अध्यक्ष प्रो. बलबीर सिंह, पूर्व प्रधान रामेश्वर सिंह, पूर्व प्रधान भगत राम, महासचिव संदीपक तोमर, अशोक विक्रम, अशोक तोमर, नौहराधार से मोहन लाल चौहान, सराहा से गीता सिंह, हरिजन लीग राजगढ़ से तारा दत्त निर्मोही, सुरेद्र चौहान, बालमीकि समाज के प्रधान प्रदीप सहोत्रा, गुरू रविदास सभा के प्रधान विजय चौरिया, शाति देवी, अमर सिंह, अक्षय, देवकात चौहान, आकाश सहित अन्य पदाधिकारी मौजूद रहे।

Posted By: Jagran