जागरण संवाददाता, नाहन : अब हिमाचल के कलाअंब स्थित उद्योग में खांसी-जुकाम की दवा में प्रयोग हुए कच्चे माल की भी जांच होगी। सेंट्रल व हिमाचल स्टेट ड्रग कंट्रोलर की जांच टीम ने यह जानकारी दी। टीम ने सोमवार को फिर दवा उद्योग के दस्तावेज जब्त किए। उद्योग से बनने वाली सभी दवाइयों के सैंपल लिए और अगले आदेश तक उत्पादन बंद करवा दिया। तीन दिन से हो रही जांच मंगलवार को भी जारी रहेगी।

उद्योग प्रबंधन ने जांच टीम को बताया कि उन्होंने कच्चा माल हरियाणा से मंगवाया था। हो सकता है कि उसमें खामी हो। उद्योग को कोल्ड बेस्ट सिरप के लिए कच्चा माला हरियाणा की एक कंपनी से आया था। जांच टीम इस आधार पर अब उसकी भी जाच करेगा। केंद्रीय प्रयोगशाला से सैंपल की रिपोर्ट आने के बाद ही उद्योग पर कार्रवाई होगी। खासी-जुकाम की दवा में कोई खतरनाक केमिकल मिला होने का अंदेशा जताया जा रहा है।

उद्योग में कोल्ड बेस्ट सिरप की 300 बोतलों को जब्त किया है। इस बैच की करीब 5700 बोतलों का उत्पादन हुआ था। इसकी सप्लाई जम्मू-कश्मीर सहित उत्तर भारत के राज्यों में की गई थी। गत वर्ष भी कालाअंब व पावटा साहिब के उद्योगों के सैंपल फेल हुए थे। इसके चलते इन उद्योगों के पूरे स्टॉक को बाजार से वापस ले लिया गया था। क्या है मामला

जम्मू-कश्मीर के स्टेट ड्रग कंट्रोलर की ओर से प्राप्त पत्र के बाद हिमाचल के राज्य ड्रग कंट्रोलर की टीम तीन दिन से कालाअंब स्थित एक दवा उद्योग की जाच कर रहा है। यहां बनाई जा रही खासी-जुकाम की दवा से जम्मू कश्मीर में पिछले माह कुछ बच्चों की मौत व कुछ की किडनी खराब हो गई थी। इसके बाद उद्योग के खिलाफ की कार्रवाई की गई।

......

उद्योग में बन रही सभी पाच दवाइयों के सैंपल लिए हैं। केंद्रीय प्रयोगशाला से एक सप्ताह में रिपोर्ट देने का आग्रह किया है।

-नवनीत मरवाह, राज्य दवा नियंत्रक, हिमाचल प्रदेश।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस