जागरण संवाददाता, शिमला : राजधानी शिमला में बारिश का दौर जारी है। इस कारण जन जीवन पूरी तरह अस्त व्यस्त हो गया है। जिला में जहां सड़कें बंद पड़ी हुई है, वहीं भूस्खलन के कारण कई घरों को खतरा पैदा हो गया है। कुछ स्थानों पर डंगे गिरने और सड़क धंसने से यातायात बाधित हो रहा है। मल्याणा में बारिश के कारण हुए भूस्खलन से बाधित मार्ग तीसरे दिन भी नहीं खुल पाया। बारिश में राहत कार्य बार-बार बाधित हो रहा है। वहीं मैहली में भूस्खलन के कारण मार्ग वनवे हो गया है, जिस कारण लंबा जाम लग रहा है। इसके अलावा ढली-सुन्नी मार्ग पर क्रैगनैनों के पास डंगा गिरने से मार्ग बंद है। इसके अलावा बारिश के कारण ऊपरी शिमला में सड़कों की हालत खस्ता हो गई है। लोगों को अपने उत्पाद मंडी तक पहुंचाने में दिक्कतें झेलनी पड़ रही है।

जिला शिमला में बारिश का कहर अभी थमने वाला नहीं है। मौसम विभाग ने मंगलवार और बुधवार को भी जिला के अधिकांश क्षेत्रों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। हालांकि जिला में सोमवार को सुबह की शुरूआत खिली धूप के साथ हुई और लोगों ने राहत की सांस ली, लेकिन दोपहर बाद फिर से आसमान काले बादलों से घिर गया और बारिश का क्रम जारी हो गया।

--------

तापमान में भी आई गिरावट

जिला शिमला में तीन दिन से जारी बारिश के कारण तापमान में भी गिरावट आई है। सितंबर माह में अक्टूबर जैसी ठंड महसूस की जा रही है। लोग गर्म कपड़ों में घूमने को मजबूर हैं।

Posted By: Jagran