शिमला, राज्य ब्यूरो। हिमाचल में मंगलवार से मौसम फिर करवट बदलेगा और बर्फबारी के साथ बारिश का दौर शुरू हो जाएगा। चार दिन तक मौसम खराब रहेगा, जिससे फिर हिमाचल सहित पड़ोसी राज्यों में ठंड बढ़ेगी। ऐसे में प्रदेशवासियों की मुश्किलें फिर से बढ़ने वाली हैं। गौर रहे कि बीते दिनों हुई बर्फबारी के बाद ऊपरी क्षेत्रों में 600 से अधिक सड़कें अभी भी बंद हैं। इसके अलावा कई गांव अंधेरे में हैं और पेयजल सप्लाई प्रभावित है। रात को मौसम के साफ होने से सड़कों पर बर्फ और पानी के जमने से यातायात प्रभावित हो रहा है। हालांकि हिमपात के बाद पर्यटन स्थल सैलानियों से गुलजार हो गए हैं।

उधर, प्रशासन ने निर्णय लिया है कि प्रदेश के शीतकालीन स्कूल 13 फरवरी को खुलेंगे। इन इलाकों में अभी जनजीवन सामान्य नहीं हो पाया है। बर्फ पड़ने के दो दिन बाद भी राजधानी सहित अन्य प्रदेश की सड़कों पर पानी जमने से आवाजाही प्रभावित हो रही है। राजधानी में रविवार को रास्तों पर फिसलकर घायल हुए। वहीं ऊपरी शिमला के लिए संजौली, मशोबरा के बंद होने के कारण बसों को बाया धामी-बसंतपुर होते हुए रामपुर, करसोग और किन्नौर आदि क्षेत्रों के लिए चलाया गया।

उधर, चंबा के अधिकतर इलाकों में रविवार को बिजली आपूर्ति बहाल कर दी गई। भरमौर, चुराह व पांगी में अभी तक व्यवस्था पटरी पर नहीं लौट पाई है। भरमौर, पांगी और तीसा उपमंडलों व धरवाला उपतहसील में हिमस्खलन के खतरे को ध्यान में रखते हुए शिक्षण संस्थानों में सोमवार व मंगलवार को अवकाश घोषित कर दिया है। चकलू पंचायत से दूल्हा बालू से साच तक आठ किलोमीटर बर्फ में पैदल चलकर दुल्हन को ब्याहने पहुंचा।

12 फरवरी से प्रदेश में पश्चिमी हवाओं के सक्रिय होने से बर्फबारी और वर्षा की पूरी संभावना है। 13 से प्रदेश के लगभग सभी क्षेत्रों में बारिश के साथ हिमपात होगा। हिमाचल में 15 फरवरी तक मौसम खराब रहेगा।

-मनमोहन, निदेशक, मौसम विभाग हिमाचल प्रदेश

 

Posted By: Babita

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप