शिमला, राज्य ब्यूरो। कांग्रेस के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष सुखविंदर सुक्खू ने पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि वह कांग्रेस के इन वरिष्ठ नेता की उम्र के लिहाज से कद्र करते हैं। वरिष्ठ होने के नाते वह आदरणीय रहेंगे। लेकिन अगर वह राजनीतिक चोट करते हैं तो फिर इसे सहन करने की क्षमता भी रखें।

सुक्खू ने कहा कि आजकल वीरभद्र सिंह सुबह-शाम मेरे सपने देखते हैं। शराब पीकर कोई पार्टी मुख्यालय नहीं आया। हमारे समर्थकों ने कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी व पार्टी के नारे लगाए। राजीव भवन में भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ लड़ाई नहीं हुई। मैं आभारी हूं कि जिस व्यक्ति के सिर से खून बह रहा था, वह पार्टी व मेरे नारे लगा रहा था। इससे पता चलता है कि कार्यकर्ता मुझे कितना प्यार करते हैं। जिन लोगों ने हिंसक वारदात को अंजाम दिया, उनके खिलाफ कड़ी अनुशासनात्मक कार्रवाई की जानी चाहिए।

सुक्खू ने कहा कि उनके कार्यकाल के दौरान कांग्रेस पार्टी का विस्तार हुआ। पार्टी अपने पांव पर खड़ी हुई। कांग्रेस मुख्यालय में घटी घटना चिंताजनक व दुखद है। मैं इसकी ¨नदा करता हूं। मैने हमेशा संगठन के हित की रक्षा की है। आम कार्यकर्ताओं तक पार्टी की विचारधारा को पहुंचा कर उनके साथ संवाद स्थापित किया।

पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र ¨सह और कांग्रेस विधायक विक्रमादित्य ¨सह अपने गिरेबान में झांकें। विक्रमादित्य की मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर व सांसद अनुराग ठाकुर के साथ कई फोटो हैं। मेरा कांग्रेस मुख्यालय में हुई हिंसा में कोई हाथ नहीं है। हमारे कार्यकर्ताओं ने राहुल गांधी, कांग्रेस पार्टी व सुख¨वदर सुक्खू के नारे लगाए थे। अगर हिंसा नियोजित होती तो हमारे उपाध्यक्ष क्यों मार खाते? मैं भाजपा का घुसपैठिया न होकर चुना हुआ अध्यक्ष हूं। पूर्व मुख्यमंत्री मुझ पर गलत सवाल उठा रहे हैं।

बबलू पंडित, प्रदेशाध्यक्ष, इंटक

बबलू पंडित भाजपा के घुसपैठिया नहीं हैं। वह कांग्रेस में इंटक के पदाधिकारी हैं। भाजपा का उनसे कोई लेना-देना नहीं है। कांग्रेस की आपसी लड़ाई चरम पर है। इसके लिए भाजपा को दोषी ठहराना सही नहीं है। कांग्रेस के कार्यक्रम में जो कुछ हुआ, वह पार्टी की संस्कृति को प्रदर्शित करता है।

अनुराग ठाकुर, सांसद

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस