जागरण संवाददाता, शिमला : हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय (एचपीयू) शिमला सहित प्रदेश के कॉलेजों में केंद्रीय छात्र संघ (एससीए) के प्रत्यक्ष चुनाव नहीं होंगे। इस बार भी परोक्ष चुनाव होंगे और एससीए प्रतिनिधि मनोनीत किए जाएंगे। दैनिक जागरण ने प्रत्यक्ष चुनाव न होने के संबंध में पांच सिंतबर को प्रमुखता से समाचार प्रकाशित किया था।

एचसीए चुनाव के संबंध में गठित हाईपावर कमेटी की बैठक शुक्रवार को हुई जिसमें देर शाम परोक्ष चुनाव करवाने की अधिसूचना जारी कर दी गई। प्रदेश विवि व कॉलेजों में 10 सितंबर से 19 सितंबर तक एससीए का गठन मनोनयन के आधार पर किया जाएगा। इसमें मेरिट के हिसाब में विद्यार्थियों का मनोनयन होगा। सूत्रों के मुताबिक गत सप्ताह गुप्तचर एजेंसियों ने सरकार को रिपोर्ट दी थी। इसके मुताबिक सितंबर में चुनाव करवाने से शैक्षणिक सत्र प्रभावित होना था। कॉलेजों में अभी तक चुनाव के लिए तैयारी भी नहीं हो पाई थी।

वर्ष 2014 में एचपीयू व कॉलेजों में हिंसा के कारण एससीए के प्रत्यक्ष चुनाव बंद कर दिए गए थे। इसके स्थान पर मनोनयन के आधार पर चुनाव करवाने का फैसला प्रशासन ने लिया था। छात्र संगठनों की आपसी रंजिश के कारण अब तक 600 से अधिक एफआइआर शिमला के थानों में दर्ज हो चुकी हैं। राजनीति के कारण चार छात्रों की भी हत्या हुई है।

इस बार भी एससीए के परोक्ष चुनाव ही होंगे। इस संबंध में अधिसूचना जारी कर दी गई है। जब प्रत्यक्ष चुनाव के लिए माहौल होगा, तब चुनाव करवा दिए जाएंगे।

डॉ. सिकंदर कुमार, कुलपति

Posted By: Jagran