शिमला, जागरण संवाददाता। हिमाचल प्रदेश के जनजातीय जिला लाहुल घाटी में हिमपात का क्रम जारी है। इसके अतिरिक्त राज्य के अधिक ऊंचाई वाले क्षेत्रों में हिमपात हो रहा है। पिछले चौबीस घंटों के दौरान रोहतांग दर्रे में ढाई फुट हिमपात हो चुका है। अटल रोहतांग सुरंग के दोनों छोर पर डेढ़ फुट से अधिक हिमपात हो चुका है, इसके अलावा राज्य के निचले व मध्यम क्षेत्रों में वर्षा का क्रम जारी है। प्रदेश में पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय रहने से 26 जनवरी तक मौसम विभाग ने अलर्ट जारी किया है।

राजधानी शिमला के तहत आने वाले पर्यटन स्थल नारकंड़ा, कुफरी में हिमपात होने से सड़कें अवरूद्ध हुई हैं। प्रशासन की ओर से बंद सड़कों को खोलने का प्रयास किया जा रहा है। जनजातीय क्षेत्र केलंग में न्यूनतम तापमान जमाव बिंदु से -4.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है।

मौसम विभाग की तरफ से लाहुल-स्पीति जिला के कुकुमसेरी में 32.3 सेंटीमीटर ताजा हिमपात होने की जानकारी दी गई है। कल्पा, नारकंडा़ में भी हिमपात हुआ है। राजधानी शिमला सहित प्रदेश के अधिकांश क्षेत्रों में तेज हवाएं चलने से शीतलहर जारी है। कांगड़ा जिला के तहत आने वाले नगरोटा सूरियां में 90 मिमी वर्षा हुई। कांगड़ा शहर के आसपास 70 मिमी, धर्मशाला में 68 मिमी, पालमपुर में 40 मिमी, ऊना में 49.2 मिमी वर्षा होने से रबी की फसलों को लाभ हुआ।

धौलाधार में भी हिमपात

धौलाधार पर हिमपात व बारिश से शीतलहर तेज हो गई है। रात भर जमकर बारिश हुई है और बिजली के चमकने के साथ-साथ ऊंचाई वाले क्षेत्रों में हिमपात हुआ है। अभी भी मौसम खराब बना हुआ है बारिश और हिमपात होने की संभावनाएं हैं। ऐसे में मौसम में ठंडक आ गई है और शीतलहर तेज है। जिला कांगड़ा के ऊंचाई वाले क्षेत्र त्रियुण्ड, धर्मकोट नड्डी, माना, ठठारना, बीड़ बिलिंग सहित आदि हिमानी आदि पहाड़ियों पर बर्फबारी हुई है। रात भर बिजली की आंख मिचोली का खेल चलता रहा। कई क्षेत्रों में अभी भी बिजली बहाल नहीं हो सकी है। कांगड़ा जिला में मंगलवार दोपहर के बारिश शुरू हुई थी यह क्रम अभी भी जारी है।

Edited By: Gaurav Tiwari

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट