राज्य ब्यूरो, शिमला : हिमाचल में पहाड़ दरकने या नदी-नालों में बाढ़ की स्थिति में सेटेलाइट फोन संपर्क स्थापित करने में सहायक होंगे। प्रदेश में विद्युत उत्पादन करने वाली पांच कंपनियों ने 20 सेटेलाइट फोन खरीदे हैं। विद्युत परियोजनाओं के आसपास गंभीर हालात पैदा होने पर सेटेलाइट फोन से लोगों की जान बचाई जा सकेगी।

भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) ने प्रदेश में मोबाइल फोन टावर ध्वस्त होने के अतिरिक्त किसी भी प्रकार की प्राकृतिक आपदा की स्थिति में सेटेलाइट फोन को उपयोगी बताया है। बीएसएनएल के शिमला जिला महाप्रबंधक एमसी सिंह ने बताया कि सेटेलाइट फोन आवेदन करने के तीन या चार दिन के दौरान मुहैया करवा दिए जाते है। इसे कोई भी संस्था या व्यक्ति खरीद सकता है। इस फोन की कीमत 70 हजार रुपये है तथा अन्य शुल्क अलग लगेंगे। निगम प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में नेटवर्क सुदृढ़ करने का प्रयास कर रहा है। मोबाइल नेटवर्क का विस्तार कर रहा है। प्रदेश में 600 बीटीएस लगाए गए है तथा 600 और बीटीएस लगाने की प्रक्रिया जारी है। शिमला दूरसंचार जिला में 3जी के 66 बीटीएस लगाने का लक्ष्य है। इनमें से 30 बीटीएस पिछले 15 दिन में तैयार किए गए हैं। इन बीटीएस का उद्घाटन भी पंचायत प्रतिनिधियों द्वारा ही किया गया है। उन्होंने बताया कि बीएसएनएल के आला अधिकारियों की बैठक शुक्रवार को हुई। इसमें जिला के ऐसे गावों जहां सिग्नल नहीं है या कम है, वहां सिग्नल पंहुचाने की योजना पर विचार किया गया। इसके अलावा निगम मणिमहेश यात्रा पर जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए भी जल्द बेहतर सिग्नल की व्यवस्था करेगा। वाट्सएप ग्रुप पर शिकायत करें जनप्रतिनिधि

बीएसएनएल ने पंचायत प्रधानों, उपप्रधानों व सचिवों का वाट्सएप ग्रुप बनाया है ताकि पंचायत को योजनाओं की नवीनतम जानकारी मिल सके। ये जनप्रतिनिधि अपनी शिकायतें भी इस गु्रप पर भेज सकते है।

Posted By: Jagran