संजय भागड़ा, रामपुर बुशहर

रामपुर में बतौर एसडीपीओ (डीएसपी) तैनात चंद्रशेखर कायथ का मुख्य उद्देश्य कोरोना महामारी के दौरान लोगों को ज्यादा से ज्यादा जागरूक करने का है। दो वर्ष के सेवाकाल में आम जनता को जागरूक करने के लिए कई जागरूकता शिविर भी आयोजित कर चुके हैं। इसमें लोगों को जान है तो जहान है के बारे में जागरूक किया जा रहा है। शहर के अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को मास्क पहनने, शारीरिक दूरी बनाए रखने, हाथों को बार-बार साफ करने के अलावा समय-समय पर सरकार के माध्यम से कोरोना को लेकर दिए जा रहे दिशानिर्देश मानने के लिए जागरूक किया जा रहा है।

एसडीपीओ चंद्रशेखर कायथ ने बताया कि कोरोना महामारी को ढील देना कतई सही नहीं है। बीते साल डेल्टा वैरिएंट ने जानमाल का काफी नुकसान किया है और इस साल ओमिक्रोन वैरिएंट तेजी से फैलता जा रहा है। आम जनता को स्वयं अपने आपको सुरक्षित रखने के लिए नियमों का पालन करना होगा। रामपुर थाना के अंतर्गत सभी थानों और चौकियों में पुलिस कर्मियों को इस कोरोना काल में पूरी तरह से मुस्तैदी से काम करने के लिए निर्देश दिए जा रहे हैं। पुलिस कभी भी किसी आम आदमी का नियम न मानने पर चालान नहीं करना चाहती, लेकिन बार-बार नियम तोड़ने वाले लोगों के साथ सख्ती भी बरतनी पड़ती है। लोगों को चालान करके नियम नहीं समझाए जा सकते, इसके लिए लोगों को स्वयं भी अपने, समाज व परिवार के लिए जागरूक होना पड़ेगा। कायथ ने बताया कि कोरोना काल में भी नशे का कारोबार करने वाले लोगों की कमी नहीं रही है। लेकिन पुलिस ने पूरी मुस्तैदी से काम करके नशे के खिलाफ मुहिम जारी रखी है और कई लोगों पर मामले भी दर्ज किए गए हैं। नशे के खिलाफ रामपुर पुलिस हमेशा पूरी निष्ठा से काम करती रहेगी व इस तरह के कारोबार करने वाले लोगों को सख्त सजा दिलवाने का प्रयास जारी रहेगा। चिट्टा, चरस, शराब तस्करी समाज के लिए घातक हैं और ऐसे लोगों को बख्शा नहीं जा सकता।

Edited By: Jagran