जागरण संवाददाता, शिमला : राजधानी शिमला में इस वीकेंड पर होटलों में आक्युपेंसी घट गई है। इस वीकेंड पर शहर के होटलों में 50 से 60 फीसद आक्युपेंसी रह गई है। करवाचौथ के त्योहार के कारण इस बार कम सैलानी शिमला पहुंचे हैं। पिछले हफ्ते जहां होटलों में सौ फीसद आक्युपेंसी थी, वहीं इस बार आधी रह गई। बताया जा रहा है कि बारिश के पूर्व अनुमान के कारण भी कई सैलानियों ने अपना प्लान रद कर दिया।

शिमला होटल एसोसिएशन के सलाहकार हरनाम कुकरेजा ने बताया कि करवाचौथ पर इस बार अधिक कारोबार होने की उम्मीद थी। आशंका जताई जा रही है कि कोरोना के खतरे के बीच लोग करवाचौथ का त्योहार घरों में मनाना ठीक समझ रहे हैं। इसलिए पर्यटकों ने इस बार शिमला का रुख नहीं किया। उन्होंने बताया कि कोरोना के चलते दो साल में पड़ी मंदी के बीच होटलों में करवाचौथ स्पेशल प्रोग्राम आयोजित नहीं किए गए। अगर आने वाले समय में संक्रमण से मुक्ति मिलती है तो ऐसे प्रोग्राम आयोजित किए जाएंगे ताकि सैलानियों को आकर्षित किया जाए।

पर्यटक आनलाइन बुकिग कर शिमला सहित अन्य रमणीय स्थानों पर घूमने के लिए परिवार व दोस्तों सहित पहुंचते हैं। पर्यटक शिमला सहित नारकंडा, कुफरी, फागू सहित नालदेहरा पहुंचते हैं। वहीं शिमला में पर्यटक जाखू रोपवे से आवाजाही करना भी पसंद करते हैं। बारिश ने डाला मस्ती में खलल

रविवार सुबह से लेकर शाम तक हुई लगातार बारिश ने सैलानियों की मस्ती में खलल डाला। बारिश के बावजूद रिज पर पर्यटकों की आवाजाही जारी थी लेकिन पर्यटक मस्ती करते हुए नहीं दिखे। बारिश के बाद हुई ठंड ने लोगों के स्वेटर निकलवा लिए हैं। वहीं लकड़बाजार में पर्यटक शाल व टोपी की खरीदारी करते दिखे।

Edited By: Jagran