शिमला, जेएनएन। ऊना के विधायक सतपाल रायजादा के स्‍टाफ को हथकड़ी पहनाने पर विधानसभा में कांग्रेस विधायकों के हंगामे के बाद सीएम जयराम ठाकुर ने बड़ा बयान दिया है। मुख्यमंत्री ने कहा इस मामले की जांच अब ऊना एसपी नहीं करेगी, यह जांच सीआइडी टीम आइजी नॉर्थ जाने की निगरानी में करेगी। इस दौरान एसपी का कोई भी दखल इस जांच में नहीं रहेगा। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने सदन में कहा इस जांच के दौरान यदि एसपी दोषी पाया जाता है तो उनका तबादला कर विभागीय जांच करवाई जाएगी। यह जांच 15 दिन में पूरी की जाएगी।

इससे पहले विधानसभा का मानसून सत्र के दूसरे दिन की शुरुआत में विपक्ष के नेता मुकेश अग्निहोत्री ने विधायक स्टाफ खिलाफ मामले को लेकर एसपी ऊना को सस्पेंड या ट्रांसफर करने की मांग की है। कांग्रेस विधायक सीआइडी जांच से नाखुश दिखे और उन्‍होंने सदन में नारेबाजी शुरू कर दी है। सीपीआइएम विधायक राकेश सिंघा ने भी कांग्रेस विधायकों के साथ नारेबाजी शुरू कर दी। तबादले की मांग पर कांग्रेस ने वाकआउट किया। चार बजे के करीब सदन की कार्यवाही स्‍थगित कर दी गई।

रायजादा के मामले में सदन से वॉकआउट करने वाले माकपा विधायक राकेश सिंघा बरसात से हुए नुकसान को लेकर चर्चा में भाग अकेले सदन में लौटे। उन्‍होंने कहा राष्ट्रीय आपदा घोषित कर केंद्र से मदद मांगी जाए। उन्होंने कहा प्रदेश के पास इतने संसाधन नहीं हैं कि लोगों की मदद की जा सके।

Posted By: Rajesh Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप