शिमला, रामेश्वरी ठाकुर। प्रदेश के सबसे बड़े स्वास्थ्य संस्थान इंदिरा गांधी मेडिकल कॉलेज (आइजीएमसी) में सरकार की ओर से लंबी व गंभीर बीमारी की हैवी डोज व महंगी दवाई लेने वाले मरीजों के लिए योजना बनाई जा रही है। इससे कैंसर, हृदयाघात सहित अन्य बीमारियों की दवाएं भी अब मुफ्त उपलब्ध करवाई जाएंगी। सरकार जल्द ही आवश्यक दवा सूची में नई दवाएं शामिल करेगी। इसके लिए तैयारी की जा रही है। 

स्वास्थ्य विभाग के साथ इसे लेकर बैठक भी हुई है। इसमें मेडिकल कॉलेज के विशेषज्ञ डॉक्टरों से वह सूची मांगी गई है जिन्हें आवश्यक दवा सूची में शामिल किया जाना है। ऐसा इसलिए किया जा रहा है क्योंकि अस्पताल में कई मरीज मर्ज के चर्म पर होने के समय पर अस्पताल पहुंचते हैं। ऐसे में उन्हें हल्की दवाएं असर नहीं कर पा रही होती हैं जोकि अस्पताल की ड्रग लिस्ट में शामिल हैं। ये दवाएं अस्पताल से मुफ्त मिलती हैं। लेकिन बीमारी बढ़ जाने के कारण डॉक्टर हाई लेवल की दवाई लिख देते हैं। इस स्थिति में मरीज निजी मेडिकल स्टोरों से दवाई खरीदने पर मजबूर हो जाते थे।

 

डायरेक्टर ऑफ मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च डॉ. रवि शर्मा का कहना है कि सरकार की ओर से आवश्यक ड्रग लिस्ट में अतिरक्त दवाएं शामिल होंगी। इसे लेकर मेडिकल कॉलेज टांडा, नेरचौक व आइजीएमसी शिमला के एमएस से बैठक हुई है। अतिरिक्त दवाओं की लिस्ट जल्द ही फाइनल होगी। गंभीर बीमारियों से ग्रस्त मरीजों को इसका सबसे ज्यादा फायदा होगा। इन सभी अस्पतालों में यह दवाएं उपलब्ध करवाई जाएंगी। 

सरकार उठा रही कदम

मरीजों की दवाई का खर्च कम करने के लिए सरकार इन दवाओं को मरीजों को मुफ्त उपलब्ध करवाएगी। इससे अस्पताल पहुंचने वाले मरीजों को काफी फायदा होगा। अभी तक 330 दवाएं सरकार करवा रही मुफ्त उपलब्ध मौजूदा समय में स्वास्थ्य विभाग की ओर से 330 दवाएं सरकार की ओर से मुफ्त उपलब्ध करवाई जा रही हैं। जोकि सभी स्वास्थ्य संस्थानों में मरीजों को मुफ्त में उपलब्ध करवाई जा रही हैं। अब अतिरिक्त दवाओं के शामिल होने के बाद सूची में दवाओं  की संख्या बढ़ जाएगी।

मरीजों को मिलेगा अधिक लाभ 

अस्पताल में कैंसर, बीपी, शुगर, हृदय रोग सहित अन्य लंबी बीमारियों वाले मरीजों के लिए आवश्यक दवा सूची में दवाएं बढ़ा दी जाएंगी। इन मरीजों को लंबे समय तक महंगी व हैवी डोज वाली दवाएं खानी होती हैं। अब ये दवाएं आइजीएमसी में मरीज मुफ्त में ले सकेंगे। सरकार यह योजना असहाय व गरीब मरीजों की सहायता के लिए शुरू कर रही है।

पेट्रोल और डीजल का मिला विकल्प, अब सस्ते में सरपट दौड़ेंगे वाहन

Iron deficiency : क्या खाएं की दूर हो जाये आयरन की कमी

 

Posted By: Babita kashyap

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप