शिमला,जागरण संवाददाता। राजधानी शिमला में नियमों की अवहेलना करना चालकों पर भारी पड़ेगा। नियमों की अवहेलना करने पर चालक पुलिस की नजरों से तो बच सकते हैं लेकिन कैमरों की नजर से नहीं बच पाएंगे। शिमला शहर के 5 स्थानों आईएसबीटी टूटीकंडी, नवबहार, मैहली, फागू, और चौड़ा मैदान में अत्याधुनिक तकनीक से लैस सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। यह सीधे पुलिस कंट्रोल रूआर,से जुड़े हैं। पुलिस के इंटैलिजैंस ट्रैफिक सिस्टम के तहत ऑटोमैटिक चालान कट जाएंगे।

यह भी पढ़ें: Himachal News: न बैंड बाजा...न बाराती.. भारी बर्फबारी के बीच कुछ ऐसे दुल्हनिया लेने पहुंचा दूल्हा

ट्रायल सफल, अब लागू होगी व्यवस्था

पहले चरण में फागू में इसका ट्रायल चल रहा था। दस दिनों तक यह ट्रायल चला जो सफल रहा है। जल्द ही इस व्यवस्था को शुरू कर दिया जाएगा। इस सिस्टम के तहत ऑटोमेटिक तरीके से वाहनों की गति, सीट बैल्ट, हैलमैंट और ओवरटेकिंग जैसे कई ट्रैफिक नियमों की रिकॉर्डिंग की जाएगी और सिस्टम से सीधे ही ऑटोमेटिक तरीके से चालान कटेंगे।

वहीं चालान कटने पर वाहन चालक व मालिकों को भी इसकी जानकारी मैसेज के माध्सम से मिल भी जाएगी। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शिमला सिटी शिमला रमेश शर्मा ने बताया कि फागू का ट्रायल पूरा हो गया है।

यह भी पढ़ें: Himachal Weather Update: हिमाचल में मौसम ने फिर ली करवट, धर्मशाला के कई हिस्सों में हुई बारिश

शिमला में स्थापित किए जा रहे 219 सीसीटीवी कैमरे

स्मार्ट सिटी के तहत निगरानी के लिए 219 सीसीटीवी कैमरा स्थापित करने की प्रक्रिया जारी है। इसके अलावा राजधानी में बढ़ते हैं नशे के कारोबार पर अंकुश लगाने के लिए पुलिस ने सतर्कता बढ़ाई है और आए दिन नशे की सप्लाई को रोकने के लिए छापे मारे जा रहे हैं । इस तरह काम करेगा सिस्टमआटोमेटिक चालान सिस्टम के तहत सी.सी.टी.वी कैमरे जहां गाड़ियों की पूरी फोटो लेंगे, वहीं इंफ्रारेड डिवाइस या सेंसर यह चेक करेंगे कि कोई गाड़ी ओवरस्पीड तो नहीं है।

अगर कोई गाड़ी ओवरस्पीड है तो उस गाड़ी की नंबर प्लेट को रीड कर कंप्यूटराइज्ड तरीके से चालान तैयार होगा जोकि वाहन मालिक के मोबाइल नंबर पर चला जाएगा। इसी तरह बिना हेलमेट के दोपहिया वाहन को भी यह डिटेक्ट करेगा और चालान काटेगा। अगर कहीं ट्रैफिक लाइटें लगी हैं और कोई चालक ट्रैफिक लाइट को जंप करता है तो उसका चालान भी आटोमेटिक तरीके से होगा।

ऐसे काम करेगा कैमरा अभी ये है व्यवस्था हिमाचल पुलिस ई-चालान सिस्टम लागू कर चुकी है। इसके तहत अभी तक पुलिस के जवान गाडियों का नंबर मशीन में फीड करते हैं। इससे उस गाड़ी की पूरी डिटेल पुलिस को मिलती है। इस तरह जिस नियम का उल्लंघन किया है उसके तहत गाड़ी का चालान कर दिया जाता है।

Edited By: Swati Singh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट