शिमला, राज्य ब्यूरो। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धौनी को स्टेट गेस्ट बनाने का मामला बुधवार को प्रदेश विधानसभा में गूंजा। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि इस मामले में राजनीति न करें। धोनी का राजनीतिक पार्टी से कोई संबंध नहीं है। वह अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी हैं और शिमला आने पर उन्हें सुरक्षा प्रदान की गई है। इसके अलावा कोई व्यवस्था नहीं की गई है।

सरकार ने धौनी को सुरक्षा कारणों से स्टेट गेस्ट बनाया है। पूर्व कांग्रेस सरकार ने पांच वर्ष में पता नहीं किस-किस को स्टेट गेस्ट बनाया था? मुख्यमंत्री ने सदन में भोजनावकाश से पहले पर्यटन नीति को लेकर जवाब देने के साथ धौनी को स्टेट गेस्ट बनाने पर सफाई दी। उन्होंने कहा कि धौनी की हिमाचल यात्रा पर सरकार ने कोई खर्च नहीं किया है। धौनी ने ऐसी माग सरकार के सामने नहीं रखी थी। राजनीति के लिए देश के महान खिलाड़ी की छवि को खराब करना उचित नहीं है। शिमला में एड फिल्म की शूटिंग के लिए पैसे न वसूलने पर जयराम ठाकुर ने कहा कि धौनी के शिमला आने व शूटिंग करने से हिमाचल विश्व मानचित्र पर आएगा। शूटिंग करने की औपचारिकताएं पूरी की गई होंगी। यह विज्ञापन की शूटिंग है, फिल्म की नहीं।

स्टेट गेस्ट बनाने पर आपत्ति नहीं, नीति बने

सुक्खू कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सुखविंदर सुक्खू ने सदन में कहा कि धौनी को स्टेट गेस्ट बनाने पर कोई आपत्ति नहीं है लेकिन इसके लिए नीति बननी चाहिए। नीति के तहत सभी अंतरराष्ट्रीय व अन्य खिलाड़ियों के लिए नियमों के अनुसार व्यवस्था हो। उन्होंने सरकार पर मामले को तोड़-मरोड़कर पेश करने का आरोप लगाया। सुक्खू ने कहा कि शूटिंग के लिए राशि न वसूले जाने से नगर निगम शिमला को नुकसान हुआ है। डिब्बे में पैक हो गई है आपकी सोच मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सुखविंदर सुक्खू को कहा कि वह अपनी सोच बढ़ाएं। आपकी सोच डिब्बे में पैक हो गई है, डिब्बा खोलो।