dir="ltr" style=""> शिमला, जेएनएन। हिमाचल प्रदेश विधानसभा के मानसून सत्र के आखिरी दिन कांग्रेस ने सुबह ही हंगामा शुरू कर दिया। नियम 67 के तहत जगत सिंह नेगी ने बादल फटने और बाढ़ जैसी स्थिति से निपटने के लिए सरकार की विफलता उठाते हुए स्थगन प्रस्ताव लाया, जिसे विधानसभा अध्यक्ष डॉ राजीव बिंदल ने अस्वीकार कर दिया। इसके बाद कांग्रेस विधायकों ने नारेबाजी शुरू कर दी। दोनों तरफ से नारेबाजी के बीच विधानसभा में हंगामा शुरू हो गया। कांग्रेस के विधायकों ने सदन से वाकआउट कर दिया। विपक्ष के वाकआउट के बाद प्रश्‍नकाल विपक्ष की गैरमौजूगी में शुरू हो गया है।

Posted By: Rajesh Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस