राज्य ब्यूरो, शिमला : राजधानी शिमला में आयोजित विधायक प्राथमिकता बैठक के दूसरे दिन मंगलवार को पांच जिलों के विधायकों ने मुख्यमंत्री के समक्ष अपनी मांगों को रखा। विधायकों ने पानी और सड़कों के अलावा अपने विधानसभा क्षेत्रों की समस्याओं के समाधान की मांग की। किन्नौर के विधायक जगत सिंह नेगी ने भी अपने विधानसभा क्षेत्र की प्राथमिकताएं रखीं।

किन्नौर : विधायक जगत सिंह नेगी की प्राथमिकताएं

-जनजातीय सलाहकार समिति का गठन किया जाए।

-लोगों को नौतोड़ भूमि प्रदान करने के लिए वन संरक्षण नियमों को निरस्त करने की अवधि बढ़ाई जाए।

-वन संरक्षण नियमों को निरस्त करने की अवधि को वर्ष 2019 तक बढ़ाया जाए।

-सीमात क्षेत्र विकास कार्यक्रम से बाहर किए गए कुछ गावों को दोबारा शामिल किया जाए।

-लोक निर्माण विभाग तथा सिंचाई एवं जनस्वास्थ्य विभाग को सीमेंट, पाइपें तथा बारूद आदि सामग्री की आपूर्ति की जाए।

-बाढ़ के दौरान कुछ गावों के लिए खतरा साबित होने वाली बास्पा नदी का तटीकरण हो।

-केंद्र सरकार की उड़ान योजना के तहत किन्नौर, काजा, लाहुल स्पीति, पागी तथा भरमौर के जनजातीय क्षेत्रों को शामिल किया जाए।

-ठेकेदारों को एक समय में केवल दो निविदाएं आवंटित की जाएं।

By Jagran