शिमला, जेएनएन। प्रदेश भर में मानसून की बरसात से जनजीवन अस्त-व्यस्त कर दिया है। कई जगह भारी बारिश से लोगों को परेशानी झेलनी पड़ रही है। प्रदेश में बारिश के कारण हुए भूस्खलन से 100 से अधिक सड़कें अब भी बंद हैं। रविवार को प्रदेश में 63.3 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड की गई है जो सामान्य से 9 फीसद अधिक है। बारिश के कारण राज्य में नुकसान का आंकड़ा प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है।

अब तक प्रदेश में कुल 1100 करोड़ 67 लाख मानसून की बारिश ने निगल लिए हैं। जिसमें अकेले लोक निर्माण विभाग को 716 करोड़ 72 लाख की चपत लगी है। रविवार को भी राज्य के अधिकांश हिस्सों में बारिश का क्रम जारी रहा। जिला मंडी में दो मकान ढह  गए। जबकि जिला शिमला में दर्जनों

सड़कें भूस्खलन के कारण बंद पड़ी हैं।

 

राजधानी के फागली में देवदार का एक पेड़ गिरने से स्कूल भवन को क्षति पहुंची है। जिला सोलन में भी ताजा बारिश से नुकसान हुआ है। शिमला-कालका मार्ग पर पहाड़ी से पत्थर गिरने का क्रम लगातार जारी रहा, जिससे जगह जगह जाम लगता रहा और लोगों को मुश्किलें झेलनी पड़ी।

आज भी जारी रहेगी बरसात

मौसम विभाग की मानें तो प्रदेश में सोमवार को भी बारिश का क्रम जारी रहेगा। विभाग ने आगामी मंगलवार और बुधवार को राज्य के मैदानी व कम ऊंचाई वाले कुछ क्षेत्रों में भारी से अति भारी बारिश होने

की संभावना जताई है। जिससे प्रदेश वासियों को मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है। राज्य में बारिश के कारण तापमान में भी भारी गिरावट दर्ज की गई है। बीते 24 घंटों के दौरान प्रदेश के अधिकतम तापमान में तीन डिग्री सेल्सियस तक की गिरावट दर्ज की गई है। जबकि न्यूनतम तापमान में कोई उल्लेखनीय परिवर्तन नहीं आया है। 

Posted By: Babita