जागरण संवाददाता, शिमला : माकपा नेताओं और एससी समाज के लोगों ने केदार सिंह जिंदान के शव को लेकर शनिवार रातभर रिज मैदान पर प्रदर्शन किया। पहले आइजीएमसी के शव गृह के बाहर नारेबाजी की। इसके बाद प्रदर्शनकारी शव को मुख्यमंत्री के सरकारी आवास ओकओवर ले जाने लगे। आइजीएमसी से प्रदर्शनकारी नारे लगाते हुए रिज मैदान पर पहुंचे, लेकिन पुलिस ने उन्हें यहां से आगे नहीं जाने दिया। इस दौरान प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच धक्का-मुक्की भी हुई। शव को रिज मैदान पर स्थित वर्षाशालिका में रखा गया और नारेबाजी रातभर जारी रही। मामला बिगड़ता देख शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज रात को ही मौके पर पहुंचे और प्रदर्शनकारियों से बातचीत की। ठियोग के विधायक माकपा नेता राकेश सिंघा और शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज के बीच रात तीन बजे एक घंटे तक बातचीत हुई। परिजनों की सभी मांगें मानी गई। इसके बाद माहौल शांत हुआ। सिरमौर जिला के शिलाई उपमंडल के अनुसूचित जाति के नेता केदार सिंह जिंदान की सिरमौर जिला में शुक्रवार को गाड़ी से कुचल कर हत्या कर दी गई थी।

सरकार की तरफ से शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज ने केदार सिंह जिंदान के परिजनों को 20 लाख मुआवजा देने, बच्चों की पढ़ाई का खर्च देने और पत्‍‌नी को नौकरी देने का आश्वासन दिया। इसके बाद परिजन शव को सिरमौर ले गए।

------

सीआइडी से जांच की मांग

जिंदान के परिजनों ने पुलिस पर मामले को रफा-दफा करने का आरोप लगाया है। परिजनों ने प्रदेश सरकार से मांग की है कि मामले की जांच सीआइडी करें और पुलिस अधीक्षक सिरमौर तथा मामले में दोषी पुलिस अधिकारियों को तुरंत प्रभाव से बर्खास्त किया जाए। हालांकि जिंदान की हत्या के बाद पुलिस ने दो लोगों को हिरासत में लिया है।

Posted By: Jagran